जीएसटी  के नियमों में बदलाव को लेकर व्यापारियों का देशव्यापी बंद मध्य प्रदेश में मिला-जुला असर

जीएसटी  के नियमों में बदलाव को लेकर व्यापारियों का  देशव्यापी बंद मध्य प्रदेश में मिला-जुला असर

जीएसटी  के नियमों में बदलाव की मांग को लेकर व्यापारियों के देशव्यापी बंद का मध्यप्रदेश में मिला-जुला असर देखने को मिल रहा है। शुक्रवार सुबह जरूरी सामान की दुकानें खुली नजर आईं। हालांकि कुछ व्यापारिक प्रतिष्ठान 10.30 बजे बाद खुलते हैं, इसलिए बंद का असर तभी देखने को मिलेगा। व्यापारियों ने दोपहर 2 बजे तक बंद का आव्हान किया है।

राजधानी भोपाल समेत मध्यप्रदेश में बंद का मिलाजुला असर देखने को मिल रहा है। भोपाल में नए शहर में व्यापारिक प्रतिष्ठान बंद रख रहे हैं, वहीं पुराने भोपाल में दाल-दलहन के व्यापारी इस बंद में शामिल नहीं हैं। भोपाल किराना व्यापारी महासंघ भी बंद का समर्थन कर रहा है। महासंघ के एक पदाधिकारी का कहना है कि सुबह तो ज्यादातर दुकानें बंद ही रहती हैं, इसलिए इसका असर थोड़ी देर बाद देखने को मिलेगा। दोपहर 2 बजे तक सभी व्यापारी अपनी अपनी दुकानें बंद रखेंगे। कन्फेडरेशन आफ आल इंडिया ट्रेडर्स (कैट) के आव्हान पर मध्यप्रदेश के संगठन ने भी इंदौर समेत पूरे प्रदेश में बंद का आव्हान किया गया है। जबकि इंदौर के मुख्य व्यापारिक संगठन अहिल्या चैंबर इस बंद में शामिल नहीं है। इस संगठन ने अपने सभी व्यापारियों से कहा है कि वे अपना पूरा काम सामान्य दिनों की तरह ही करते रहें। चैंबर के अध्यक्ष रमेश खंडेलवाल कहते हैं कि बंद करने से तो हम व्यापारियों का ही नुकसान होता है। जीएसटी में किए जा रहे बदलाव और उसकी जटिलता का विरोध हम भी कर रहे हैं। केंद्र सरकार को इसके लिए पत्र भी लिखा है, लेकिन बंद में हम शामिल नहीं हैं।  साथ ही विन्ध्य क्षेत्र में भी बंद का असर देखने को मिला.