मध्यप्रदेश विधानसभा का बजट सत्र, 2 मार्च को होगा बजट पेश, राज्यपाल ने की सरकार की तारीफ

मध्यप्रदेश विधानसभा का बजट सत्र, 2 मार्च को होगा बजट पेश, राज्यपाल ने की सरकार की तारीफ

मध्यप्रदेश विधानसभा का बजट सत्र सोमवार से शुरू हो गया। यह सत्र मार्च तक चलेगा। इस बजट सत्र के पहले ही दिन गिरीश गौतम निर्विरोध विधानसभा अध्यक्ष बनाए गए है। गिरीश गौतम चार बार से भाजपा के विधायक हैं और विंध्य क्षेत्र का प्रतिनिधित्व भी करते है.

बता दें यह बजट सत्र 26 मार्च तक चलने वाला है। इस सत्र में वर्ष 2021-22 का बजट पेश किया जाना है। इस पूरे 33 दिवसीय सत्र में 23 बैठकें प्रस्तावित है। हालांकि इसे 11 मार्च के पहले ही खत्म किया जा सकता है। इस सदन में 2 मार्च को मध्यप्रदेश का बजट पेश किया जाएगा। वित्त मंत्री जगदीश देवड़ा टेब के जरिए बजट प्रस्तुत करेंगे।

बजट सत्र में राज्यपाल आनंदीबेन पटेल ने अपने अभिभाषण में कहा की 11 माह पहले मेरी सरकार ने विषम परिस्थितियों में कार्यभार ग्रहण किया था। उस समय कोरोना महामारी फैल गई थी। कोरोना संक्रमण से प्रभावी रोकथाम के लिए हमारी सरकार ने काम किया है

वहीं मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने अपने संबोधन में  लिफ्ट हादसों को लेकर मामले सामने आने के बाद एक समिति का गठन कर दिया है। इधर, नगरीय प्रशासन मंत्री भूपेंद्र सिंह ने पेट्रोल डीजल की मूल्य वृद्धि के विरोध में साइकिल चलाकर आने वाले विधायको पर जमकर निशाना साधा और कहा कि इन्हें राजस्थान में जाकर साइकिल चलाना चाहिए, क्योंकि देश में सबसे महंगा पेट्रोल राजस्थान मे ंहै, इसके बाद दूसरे नंबर पर छत्तीसगढ़ में है।

 आपको बता दें की कई कांग्रेसी विधायक साइकिल से विधानसभा पहुंचे थे यह लोग पेट्रोल-डीजल के मूल्य वृद्धि का विरोध कर रहे थे। विधायक पीसी शर्मा ने कहा कि मनमोहन सिंह की सरकार के समय शिवराज सिंह चौहान साइकिल चलाकर विधानसभा पहुंचते थे, अब क्यों नहीं साइकिल से आ रहे हैं।

वहीं नेता प्रतिपक्ष कमलनाथ ने विधानसभा भवन स्थित अपने कक्ष में विधायकों से चर्चा की। इस दौरान पूर्व मंत्री एवं वरिष्ठ कांग्रेस विधायक पीसी शर्मा, जीतू पटवारी, डॉ. गोविंद सिंह, सज्जन सिंह वर्मा और तरुण भनोट समेत कई विधायक उपस्थित थे।

 सदन की कार्यवाही शुरू होने से पहले चिकित्सा मंत्री विश्वास सारंग ने कहा कि कमलनाथ की बनाई परंपरा का पालन करते हुए भाजपा विधानसभा उपाध्यक्ष का पद भी अपने पास रखेगी। उन्होंने कहा कि हमने सत्ता में रहते हुए 15 साल विपक्ष को विधानसभा का उपाध्यक्ष पद दिया था, लेकिन कमलनाथ सरकार ने इस परम्परा को खत्म कर दिया था। इसलिए अब कांग्रेस की ही बनाई गई इस परंपरा का पालन भाजपा करेगी।

सत्र से पहले मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान, विपक्ष के नेता कमलनाथ के आवास पहुंचे और मुलाकात कर उनका हालचाल जाना। गौरतलब है कि कमलनाथ रविवार को इंदौर में एक अस्पताल में गए थे, जहां लिफ्ट गिर गई थी। उनके साथ कांग्रेस विधायक सज्जन सिंह वर्मा जीतू पटवारी समेत अन्य नेता भी लिफ्ट में सवार थे। हालांकि किसी को कोई चोट नहीं पहुंची थी।