बजट सत्र का चौथा दिन, उठा अवैध खदान का मामला, सवालों से बचते दिखे मंत्री

बजट सत्र का चौथा दिन, उठा अवैध खदान का मामला, सवालों से बचते दिखे मंत्री

बजट सत्र के चौथे दिन विधानसभा में कांग्रेस विधायक सज्जन सिंह वर्मा ने कहा कि एक महिला विधायक को जान से मारने की धमकी मिल रही है लेकिन पुलिस कुछ नहीं कर रही है। उन्होंने पूर्व विधायक नागर सिंह चौहान को गिरफ्तार करने की मांग सदन में रखी। इस पर गृह मंत्री नरोत्तम मिश्रा ने कहा कि नहीं करेंगे गिरफ्तार। यह लोकल की राजनीति का मामला है। सदस्य की सुरक्षा हमारी जिम्मेदारी है। इसके बाद सदन में हंगामा शुरू हो गया।
कांग्रेस के वरिष्ठ विधायक कांतिलाल भूरिया ने बुधवार को भी शून्य काल में यह मामला उठाया था। उन्होंने कहा था कि कलावती भूरिया ने पुलिस प्रशासन से शिकायत दर्ज कराई लेकिन कोई कार्यवाही नहीं हुई। महिला विधायक को पिछले कई दिनों जान से मारने की धमकियां मिल रही हैं। वहीं कांग्रेस विधायक लाखन सिंह यादव ने ग्वालियर के लोहानी गांव में अवैध खदान का मामला सदन में उठाया। उन्होंने आरोप लगाया कि यह खदान स्वीकृत नहीं है बावजूद इसके माफिया रेत निकाल रहे हैं। इसकी जानकारी कलेक्टर को 15 बार फोन पर दी बावजूद इसके कोई कार्यवाही नहीं की गई। इसके जवाब में खनिज मंत्री बृजेंद्र प्रताप सिंह ने कहा कि अभी तक जो कार्रवाई की गई है उसमें 8 प्रकरण दर्ज किए गए हैं और 4 पोकलेन जब्त की गई है। इस पर लाखन सिंह यादव ने कहा कि वसई में स्वीकृत रेत खदान में रेत नहीं है। उसकी आड़ में आसपास के गांव से रेत निकाली जा रही है। इसको लेकर मंत्री ने कोई जवाब नहीं दिया।
विदिशा से कांग्रेस विधायक शशांक भार्गव ने आरोप लगाया कि खुले में पड़ा 4 हजार टन गेहूं पानी में खराब हो गया। इसके लिए कौन दोषी है और इसकी भरपाई कैसे की जाएगी? इसका जवाब देते हुए खाद्य मंत्री बिसाहूलाल सिंह ने कहा कि सरकार ने पूरा गेहूं खरीद लिया है।
पूर्व मंत्री pc शर्मा ने पूर्व विधायक जितेंद्र डागा के अवैध निर्माण को तोड़े जाने का मामला विधानसभा में उठाते हुए आरोप लगाया कि सरकार बदले की भावना से काम कर रही है और कांग्रेस के नेताओं को निशाना बनाया जा रहा है। हालांकि इस मामले पर विधानसभा अध्यक्ष ने कोई टिप्पणी नहीं की।
इस पर चिकित्सा शिक्षा मंत्री विश्वास सारंग ने कहा कि पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह जितेंद्र डागा के यहां चले गए लेकिन उनको सीधी बस हादसे में मृतकों के परिवार वालों से मिलने की फुर्सत नहीं थी। उन्होंने आरोप लगाया कि पीसी शर्मा जब होशंगाबाद के प्रभारी मंत्री थे तब नर्मदा के घाटों में अवैध रेत उत्खनन जोरों पर हुआ। कोरोना संक्रमण को लेकर सारंग ने कहा कि स्थिति नियंत्रण में है लेकिन सावधानी बरतने की जरूरत है। सरकार ने फैसला किया है कि लॉकडाउन नहीं होगा।