विधानसभा का 5वां दिन बिजली के बिल का उठा मुद्दा, विधानसभा अध्यक्ष ने भी माना की अधिक आ रहा है बिल

विधानसभा का 5वां दिन बिजली के बिल का उठा मुद्दा, विधानसभा अध्यक्ष ने भी माना की अधिक आ रहा है बिल

मध्यप्रदेश विधानसभा का शुक्रवार को 5वां दिन था, राज्यपाल आनंदीबेन पटेल के अभिभाषण पर मुख्यमंत्री शिवराज ने अपने संबोधन में कहा कि विपक्ष बार-बार कह रहा है कि 2018 में कचरा साफ हो गया, लेकिन मैं बता दूं, मेरे मन में एक बार भी यह नहीं आया कि मुझे मुख्यमंत्री बनना है। जब कमलनाथ सरकार बनी तब मैंने सोच लिया था कि मुझे सीएम हाउस खाली करना है। हम चाहते तो उस समय भी जोड़-तोड़ कर सकते थे। चौहान ने बताया कि राज्यपाल के अभिभाषण में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का जिक्र क्यों है। उन्होंने कहा कि पीए मोदी ने देश का गौरव बढ़ाया है। कोरोना काल में मोदी ने संजीवनी बूटी दी। इससे पहले सदन में बिजली बिल को लेकर जमकर हंगामा हुआ। किसानों को मिल रहे बिजली बिल पर भी बात हुई। विधानसभा अध्यक्ष ने भी कहा कि मेरे क्षेत्र में भी अधिक बिल आ रहे हैं। इस पर ऊर्जा मंत्री प्रद्युमन सिंह तोमर ने जांच करने की बात कही। इस दौरान विधानसभा अध्यक्ष गिरीश गौतम ने भी कहा कि मेरे क्षेत्र के किसान भी बिजली बिलों से परेशान हैं। आसंदी से अध्यक्ष ने ऊर्जा मंत्री प्रद्युम्न तोमर को पूरे मामले की जांच करवाने को कहा। किसानों को अधिकृत कंपनियों के कृषि पंप दिए जाने के निर्देश दिए गए। भाजपा विधायक विजयपाल सिंह ने यह मामला उठाया था। इस दौरान हंगामा होने लगा। इस पर ऊर्जा मंत्री प्रद्युमन सिंह तोमर ने कहा कि इस मामले की जांच कराई जाएगी।