मोतियाबिंद ऑपरेशन के लिए मवेशियों की तरह ठूंसकर लाए गए बुजुर्ग, 150 बुजुर्गों के लिए दो बसों की सुविधा

मोतियाबिंद ऑपरेशन के लिए मवेशियों की तरह ठूंसकर लाए गए बुजुर्ग, 150 बुजुर्गों के लिए दो बसों की सुविधा

इंदौर में नगर निगम ने फिर बुजुर्गो के साथ बुरा बर्ताव किया है देपालपुर से मोतियाबिंद का ऑपरेशन कराने के लिए मंगलवार को 150 बुजुर्गों को दो बसों में भरकर लाया गया। चोइथराम अस्पताल की ये दोनों बसें 32-32 सीटर थीं। ठसाठस भरी बसों में जितने बुजुर्ग बैठे थे, उनसे कहीं ज्यादा लोग खड़े हुए थे। करीब 40 किलोमीटर के सफर में ये बुजुर्ग एक-दूसरे पर गिरते-पड़ते रहे।

इंदौर में पहले भी आंखों के ऑपरेशन के दौरान बड़ी लापरवाही सामने आई थी। इसमें कई लोगों की आंखों की रोशनी चली गई थी, तो वहीं कई लोगों को इलाज के लिए चेन्नई भेजना पड़ा था। वहीं, करीब दो हफ्ते पहले इंदौर नगर निगम के कर्मचारियोंने बुजुर्गों को मवेशियों की तरह डंपर में भरकर शहर से बाहर ले जाकर छोड़ दिया था। आपको बता दें देपालपुर के सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र में मंगलवार को आसपास के गांवों मरीजों की आंखों की जांच की गई थी। जांच के बाद मोतियाबिंद के ऑपरेशन के लिए मरीजों को इंदौर के चोइथराम अस्पताल भेजा गया था। प्रशासन और अस्पताल प्रबंधन ने न तो बुजुर्गों की उम्र का लिहाज किया और न ही उनकी बीमारी का।
वहीं बस में सवार बुजुर्ग मरीजों का कहना था कि अस्पताल ले जाने के लिए यही इंतजाम किया था। इधर, कंडक्टर और ड्राइवर ने कहा कि लोग अपनी मर्जी से बसों में बैठ गए थे। मामला सामने आने के बाद जिम्मेदार अधिकारियों का कहना कि जांच करवाकर दोषियों पर सख्त कार्रवाई करेंगे। हालांकि, इस दौरान भी ब्लॉक मेडिकल ऑफिसर अस्पताल की बजाय CMHO ऑफिस में मीटिंग कर रही थीं। वहीं, देपालपुर के तहसीलदार बजरंग बहादुर ने कहा कि इस मामले में चोइथराम अस्पताल के स्टाफ को नोटिस जारी किया है।