कोरोना की चपेट में आईं प्रदेश की जेलें, अब तक 300 से ज्यादा कैदी संक्रमित

कोरोना की चपेट में आईं प्रदेश की जेलें, अब तक 300 से ज्यादा कैदी संक्रमित

प्रदेश में कोरोना के कहर के बीच सरकार समेत प्रशासन के आला अधिकारी संक्रमण की चेन तोड़ने के प्रयासों में लगे हैं। कोरोना संक्रमण को रोकने के लिए सरकार ने प्रदेश के कई जिलों में कोरोना कर्फ्यू का सख्ती से पालन कराने के आदेश दे दिए हैं। ऐसे में मप्र की जेलें भी कोरोना की चपेट से दूर नहीं हैं। यहां लगातार कोरोना का संकट गहराता जा रहा है। प्रदेश की जेलों में अब तक 300 से ज्यादा कैदी कोरोना संक्रमण की चपेट में हैं। जेलों में क्षमता से अधिक कैदी भरे होने के कारण यह स्थिति बन रही है।

सरकार ने कैदियों को पेरोल पर छोड़ने का फैसला लिया था। इससे पहले ही कोरोना की दूसरी लहर का खतरा जेलों में मंडराने लगा है। सरकार ने जेल में कैदियों की संख्या कम करने के लिए कुछ कैदियों को पेरोल पर छोड़ा है। इसके बाद भी यहां संख्या नहीं घट पा रही है। क्योंकि हर दिन यहां रोज नए कैदी आ रहे हैं। क्षमता से कैदियों के होने के कारण यहां कोरोना संक्रमण का खतरा यहां डराने लगा है। गौरतलब है प्रदेश की 131 जेलों में करीब 50 हजार कैदी बंद हैं।

 प्रदेश में 24 घंटे में 93 मरीजों की मौत हुई है। वहीं अब तक इस कोरोना महामारी के मरने वालों की संख्या 5,905 हो गई है। सोमवार को कोरोना के सबसे ज्यादा मामले इंदौर शहर में मिले हैं। यहां 1787 नए मामले सामने आए हैं। वहीं इसके बाद राजधानी भोपाल दूसरे नंबर पर बनी हुई है। यहां 1669 नए मामले सामने आए हैं। वहीं ग्वालियर में 910 एवं जबलपुर में 739 नए कोरोना मरीजों की पुष्टि हुई है।

बता दें कि प्रदेश में संक्रमण की चेन तोड़ने के लिए कोरोना कर्फ्यू अभी भी जारी है। हालांकि कई जिलों में कोरोना संक्रमण की रफ्तार को देखते हुए कुछ छूट दी गई है। वहीं कई जिलों में लॉकडाउन और कोरोना कर्फ्यू का सख्ती से पालन किया जा रहा है।