जर्मनी, इटली, फ्रांस ने भी रोका AstraZeneca की कोविड-19 वैक्सीन का इस्तेमाल, WHO ने कहा, सबूत नहीं-वैक्सीनेशन जारी रखा जाए |

जर्मनी, इटली, फ्रांस ने भी रोका AstraZeneca की कोविड-19 वैक्सीन का इस्तेमाल, WHO ने कहा, सबूत नहीं-वैक्सीनेशन जारी रखा जाए |

 

कुछ लोगों में ब्लड क्लॉट्स की शिकायत के बाद जर्मनी, फ्रांस, इटली और स्पेन समेत कई यूरोपीय देशों ने एस्ट्राजेनेका की कोविड-19 वैक्सीन को रोक दिया है. हालांकि, कंपनी और अंतरराष्ट्रीय नियामक संस्थाओं का कहना है कि वैक्सीन को इल्जाम देने का कोई सबूत नहीं है. यूरोपीय यूनियन के टीकाकरण अभियान को धक्का लगा है. सदस्य देश पहले ही वैक्सीन की कमी और अन्य बाधाओं से जूझ रहे थे. अब नई मुसीबत ने अभियान को तेज करने की प्रक्रिया पर सवाल खड़ा कर दिया है.

फ्रांस के राष्ट्रपति एनुमेल मैक्रां ने कम से कम मंगलवार की दोपहर तक वैक्सीन वितरण बंद करने की बात कही. स्पेन, स्लोवेनिया और पुर्तगाल की तरह इटली ने भी अस्थायी बैन का एलान किया है. इससे पहले कुछ दिनों में डेनमार्क, आयरलैंड, नीदरलैंड, नार्वे, आइसलैंड, बुल्गारिया और कांगों भी ऐसा कर चुके हैं. डेनमार्क ने सबसे पहले एस्ट्राजेनेका की वैक्सीन के इस्तेमाल को रोकने का एलान किया था.