संक्रमण बेकाबू:आयुष्मान से जुड़े 170 अस्पताल कर सकेंगे इलाज,इलाज से इनकार करने वाले अस्पतालों पर होगी कार्रवाई

संक्रमण बेकाबू:आयुष्मान से जुड़े 170 अस्पताल कर सकेंगे इलाज,इलाज से इनकार करने वाले अस्पतालों पर होगी कार्रवाई

प्रदेश में शुक्रवार को एक दिन के सबसे ज्यादा 2240 नए मामले सामने आए। इसी के साथ एक्टिव केसों की संख्या बढ़कर 18992 हो गई है। ऐसे में सरकार से अनुबंधित कोविड अस्पतालों, प्राइवेट अस्पतालों में मरीजों की तादाद बढ़ने से सामान्य और आईसीयू बेड फुल हो रहे हैं। भविष्य में स्थिति और भयानक न हो, इसके लिए सरकार ने इंतजाम करने शुरू कर दिए हैं।स्वास्थ्य संचालनालय ने शुक्रवार को एक आदेश जारी कर प्रदेश में आयुष्मान योजना के तहत पंजीकृत 170 अस्पतालों को कोरोना मरीजों का इलाज करने को कहा है। इसके तहत इन अस्पतालों के 20% बेड कोरोना मरीजों के लिए रिजर्व किए गए हैं। इन 170 अस्पतालों में 59 भोपाल के हैं। यानी जो भी आयुष्मान कार्डधारक संदिग्ध या पॉजिटिव कोरोना मरीज इन अस्पतालों में इलाज के लिए जाते हैं, उन्हें अस्पताल भर्ती करने से मना नहीं कर सकेंगे। यदि कोई नॉन आयुष्मान पेशेंट यहां इलाज कराता है तो उसे भुगतान करना होगा।
प्रदेश के सरकारी कर्मचारी या उनके परिवार के आश्रित सदस्य अगर कोरेाना से संक्रमित होते हैं तो ऐसी दशा में प्रदेश के सभी जिलों के अशासकीय निजी चिकित्सालय में आंतरिक रोगी के रूप में जांच या उपचार कराने पर चिकित्सा व्यय की प्रतिपूति की जाएगी। कर्मचारी फेविपिराविर टेबलेट, रेमडेसिविर इंजेक्शन , टास्लीजुमेब इंजेक्शन आदि के चिकित्सा व्यय की प्रतिपूर्ति करेगा। सरकारी कर्मचारी कोविड 19 इलाज के चिकित्सा देयक अपने विभाग के माध्यम से जिले के सिविल सर्जन के प्रतिहस्ताक्षर करवाने के बाद कर्मचारी के सबंधित विभाग द्वारा ऐसे चिकित्सा देयकों में नियमानुसार भुगतवान की कार्यवाही की जाएगी।

  • सरकार द्वारा अनुबंधित प्राइवेट डेडिकेटिड कोविड हॉस्पिटल यहां भर्ती मरीजों की जांच और इलाज पूरी तरह से फ्री।
  • सरकारी मेडिकल कॉलेज हॉस्पिटल एवं स्वास्थ्य विभाग के अस्पताल यहां भी भर्ती मरीजों की जांच और इलाज पूरी तरह से फ्री।
  • आयुष्मान रजिस्टर्ड अस्पताल- A आयुष्मान कार्ड धारकों को फ्री। B : गैर आयुष्मान मरीजों को पेमेंट करना होगा।
  • गैर आयुष्मान पंजीकृत अस्पताल (प्राइवेट कोविड अस्पताल) सभी कोरोना मरीज भर्ती होंगे, पर उन्हें इलाज खर्च देना होगा।

अभी प्रदेश में सरकार से जुड़े 941 जगहों पर इलाज

  • डीसीएच - 31
  • डीसीएचसी- 130
  • डीसीसीसी- 780
  • कुल- 941
    स्वास्थ्य संचालनालय के मुताबिक इन 170 अस्पतालों में अभी कुल 13212 बेड हैं। इनमें से 2642 बेड कोविड संक्रमित व संदिग्ध मरीजों के लिए रहेंगे। आयुष्मान योजना के मरीज के इलाज से इनकार करने पर संबंधित अस्पताल के खिलाफ डिजास्टर मैनेजमेंट एक्ट 2005 के तहत कार्रवाई की जाएगी।
    प्रदेश में कुल संक्रमित अब 83,619 हैं। संक्रमण दर 9.5% हो गई है, जो गुरुवार को 9.2% थी। सभी 52 जिलों में 200 से ज्यादा केस हैं। स्वास्थ्य विभाग के अफसरों का मानना है कि यदि यही रफ्तार रही तो सितंबर खत्म होने के पहले ही प्रदेश में कुल संक्रमित एक लाख हो जाएंगे।
    वहीं भोपाल में 216 नए मरीज मिले। इनमें 3 थाना प्रभारी भी हैं। पांच मौतें हुईं, इनमें 3 भोपाल की।