भारत में गर्भवती होने वाली महिलाओं को भी मिलेगा कोविड का टीका

भारत में गर्भवती होने वाली महिलाओं को भी मिलेगा कोविड का टीका

पुरे विश्‍व में कोरोना के खिलाफ चल रहे अभियान और वैक्‍सीनेशन से अभी तक गर्भवती और स्‍तनपान कराने वाली महिलाओं को दूर रखा गया है. इसकी मुख्‍य वजह है कि भारत के अलावा अन्‍य देशों में बनाई गई वैक्‍सीन का न तो परीक्षण ही गर्भवती महिलाओं (Pregnant women) पर किया गया और न ही गर्भवती महिला के जननांगों पर पड़ने वाले इसके प्रभाव को देखा गया था. लेकिन भारत में गर्भवती होने वाली महिलाओं को अब जल्‍द ही कोविड का टीका (Covid Vaccine) मिल सकेगा. इसके लिए भारत में रिसर्च शुरू कर दिया गया है.

इंडियन काउंसिल ऑफ मेडिकल रिसर्च (ICMR) की टास्‍क फोर्स ऑपरेशन ग्रुप फॉर कोविड के हेड डॉ. एन के अरोड़ा ने बताया कि गर्भवती महिलाओं को कोविड से बचाने के लिए भारत सरकार काफी तेजी से काम कर रही है. इसके लिए मिनिस्‍ट्री ऑफ साइंस एंड टैक्‍नोलॉजी के डिपार्टमेंट ऑफ बायोटैक्‍नोलॉजी के अंतर्गत बन रहीं वैक्‍सीनों पर रिसर्च शुरू करने के लिए कहा गया है. अभी तक भारत में इमरजैंसी इस्‍तेमाल में लाई जा रहीं भारत बायोटेक की कोवैक्‍सीन और सीरम इंस्‍टीट्यूट की कोविशील्‍ड वैक्‍सीनों के अलावा नई बन रहीं वैक्‍सीनों पर रिसर्च शुरू कर दिया है.

डॉ. अरोड़ा कहते हैं कि कोवैक्‍सीन (Covaxin) और कोविशील्‍ड (Covishield) के किसी भी ट्रायल में अभी तक प्रेग्‍नेंट और स्‍तनपान कराने वाली महिलाओं को शामिल नहीं किया गया है. लेकिन भारत में फंडिंग ग्रुप्‍स और साइंटिफिक एजेंसीज अब वैक्‍सीन के रिसर्च ग्रुप्‍स से कह रही हैं कि वे वैक्सीन की एनिमल स्‍टडीज में रिप्रोडक्टिव टॉक्सिसिटी स्‍टडी यानि कि जननांग में पड़ने वाले टॉक्सिक प्रभाव को शामिल करें. ऐसे में पहले से बन चुकी कोवैक्‍सीन और कोविशील्‍ड के अलावा नई बन रहीं सभी वैक्‍सीन के रिसर्च ग्रुप्‍स ने इस दिशा में काम करना शुरू कर दिया है. संभावना जताई जा रही है कि आने वाले चार महीने में प्रेग्‍नेंट महिलाओं को लेकर यह अध्‍ययन पूरा हो जाएगा और इन्‍हें भी कोविड का टीका दिया जा सकेगा.