जबलपुर मेडिकल कॉलेज में 2 मासूमों की मौत, दोनों को सांस लेने में परेशानी थी

जबलपुर मेडिकल कॉलेज में 2 मासूमों की मौत, दोनों को सांस लेने में परेशानी थी

जबलपुर में ढाई माह का बच्चा और पांच माह की बच्ची की सांस लेने में तकलीफ और खांसी और झटके आने की बीमारी से मौत हो गई। दोनों बच्चे नेताजी सुभाष मेडिकल कॉलेज के शिशु रोग वार्ड में भर्ती थे। कोविड-19 की गाइडलाइन के अनुसार बच्चों की अंत्येष्टि गढ़ा स्थित चौहानी मुक्तिधाम में परिजन की मौजूदगी में की गई। मेडिकल कॉलेज के डीन डॉ. प्रदीप कसार के निर्देश पर दोनों बच्चों की कोरोना जांच के लिए सैंपल लिए गए। आईसीएमआर लैब से जांच रिपोर्ट आज मिलने की संभावना है। 

आईसीएमआर लैब से शुक्रवार को 110 सैंपल की रिपोर्ट मिली। इसमें सर्वोदय नगर निवासी दिग्पाल कोरी (27) और पी जैकब (24) कोरोना संक्रमित पाए गए। ये दोनों निगम के सफाई ठेका कर्मचारी हैं। दोनों शहर में सैनिटाइजेशन के काम में लगे थे। पहले पॉजिटिव आए सफाई कर्मियों के संपर्क में आने पर संक्रमित हुए हैं। संक्रमित सफाई कर्मियों की संख्या 9 हो गई है। वहीं, हॉटस्पॉट गोहलपुर में 45 साल का व्यक्ति पॉजिटिव मिला। वह 2 दिन पहले सांस लेने की तकलीफ होने पर मेडिकल कॉलेज में भर्ती हुआ था। शहर में पॉजिटिव मरीजों की संख्या बढ़कर 119 हो गई है। इसमें 18 स्वस्थ हो चुके हैं। 4 की मौत हुई है।

मेडिकल कॉलेज में शिशु रोग विभागाध्यक्ष डॉ. अव्यक्त अग्रवाल ने बताया कि नरसिंहपुर के गोटेगांव निवासी 5 माह की बच्ची को 8 मई की रात 3 बजे मेडिकल में भर्ती कराया गया था। बच्ची को 2 दिन से लगातार खांसी, सांस लेने में तकलीफ और दूध न पीने की वजह से परिजन मेडिकल कॉलेज लेकर आए थे। बच्ची की हालत गंभीर होने पर उसे वेंटीलेटर पर रखा गया था, जिसकी सुबह साढे़ 4 बजे मौत हो गई। बच्ची के परिजन ने बताया कि वह किसी कोरोना संक्रमित मरीज या संदिग्ध के संपर्क में नहीं आई थी।

वहीं, सिवनी के बरामा ग्राम निवासी ढाई माह के बच्चे को 7 मई की रात साढ़े 3 बजे परिजन मेडिकल कॉलेज लेकर पहुंचे थे। खांसी, सांस लेने में तकलीफ और झटके आने की समस्या के कारण बच्चे को वेंटीलेटर पर रखा गया था। शुक्रवार को सुबह साढ़े 7 बजे बच्चे की मौत हो गई। यह बच्चा भी किसी कोविड मरीज के संपर्क में नहीं आया था।