कृषि कानूनों के विरोध में प्रदेश में आन्दोलन, शहरों में जगह जगह चक्काजाम

कृषि कानूनों के विरोध में प्रदेश में आन्दोलन, शहरों में जगह जगह चक्काजाम

मध्यप्रदेश में कृषि कानूनों के विरोध में आंदोलन कर रहे किसान शनिवार को प्रदेश में चक्काजाम कर रहे हैं.  प्रदेश के इंदौर, भोपाल, ग्वालियर, जबलपुर, उज्जैन, सागर सहित अन्य जिलों में किसान नेता दोपहर 12 से 3 के बीच हाईवे पर चक्काजाम करेंगे. हालांकि जाम के दौरान एंबुलेंस और स्कूल बस जैसी जरूरी सेवाओं को छूट रहेगी.

चक्काजाम आंदोलन कर रहे 40 किसान संगठनों द्वारा बनाए गए संयुक्त किसान मोर्चा ने ये चक्काजाम बुलाया है. शनिवार दोपहर 12 से 3 बजे तक चक्काजाम रहेगा. इस दौरान गाड़ियों को चलने नहीं दिया जाएगा. सभी नेशनल और स्टेट हाईवे पर यातायात अवरुद्ध किया जाएगा.
 

कृषि कानूनों के खिलाफ 26 जनवरी को प्रदर्शन करने वाले किसान बड़ी संख्या में महाराणा प्रताप चौराहा, राऊ पिगडंबर एबी रोड पर किसान 3 घंटे तक हाईवे को जाम करेंगे. हालांकि, किसानों ने कहा है कि प्रदर्शन शांतिपूर्ण रहेगा. वहींभोपाल में पुलिस की दबाव बनाने की रणनीति कामयाब होती दिख रही है, क्योंकि अब तक यहां पर कोई भी संगठन खुलकर चक्काजाम करने की बात लेकर सामने नहीं आया है. किसान नेताओं का भी कहना है कि सभी प्रमुख और बड़े किसान नेता शहर से बाहर हैं. वे खातेगांव में महापंचायत कर रहे हैं. ऐसे में राजधानी में प्रदर्शन का नेतृत्व करने के लिए कोई बड़ा नेता नहीं है, इसलिए यहां पर चक्काजाम या बड़ा प्रदर्शन किए जाने की संभावना काफी कम है.

वहीं जबलपुर में कृषि क़ानूनों के खिलाफ कांग्रेस का बड़ा प्रदर्शन. कांग्रेस ट्रैक्टर मार्च करेगी और विशाल किसान सभा का आयोजन होगा. राज्यसभा सांसद विवेक तनखा समेत कांग्रेस विधायक पाटन में होने वाले प्रदर्शन में शामिल होंगे.