अब कर्मचारी-अफसरों पर नजर रखेगा फाइल ट्रैकिंग सिस्टम, पकड़े जाने पर होगी कड़ी कार्रवाई

अब कर्मचारी-अफसरों पर नजर रखेगा फाइल ट्रैकिंग सिस्टम, पकड़े जाने पर होगी कड़ी कार्रवाई

मध्य प्रदेश के मंदसौर में सरकारी दफ्तरों में कामकाज की स्पीड बढ़ाने के लिए फाइल ट्रैकिंग सिस्टम की शुरुआत की गई है। दफ्तरों में फाइलों को अकारण रोक कर रखने और उनका निपटारा नहीं करने की लगातार बढ़ती शिकायतों को देखते हुए जिला प्रशासन इसकी शुरुआत कर रहा है।

फाइल ट्रैकिंग सिस्टम मदसौर के जिला कलेक्टर कार्यालय और नगरपालिका में काम के आधुनिकीकरण का हिस्सा है। पायलट प्रोजेक्ट के रूप में कलेक्टर कार्यालय में इसकी शुरुआत हो चुकी है है और फिलहाल कर्मचारियों को इसका प्रशिक्षण दिया जा रहा है। फरवरी के पहले सप्ताह में कलेक्टर ऑफिस के साथ नगरपालिका में भी इसे पूरी तरह लागू कर दिया जाएगा।

जिले का ई-गवर्नेंस डिपार्टमेंट फाइल ट्रैकिंग सिस्टम की निगरानी करेगा। इस व्यवस्था में हर फाइल का अलग बारकोड होगा। बारकोड की मदद से हर टेबल पर फाइल की एंट्री और इसे ऑनलाइन ट्रैक किया जा सकेगा। फाइल से संबंधित हर गतिविधि कंप्यूटर में दर्ज होगी। इसे गूगल स्प्रेड शीड या एक्सेल शीट के जरिए आसानी से ट्रैक किया जा सकेगा।

फाइलों की ऑनलाइन ट्रैकिंग से यह पता चलेगा कि कौन सी फाइल कहां पड़ी है। फाइल किस टेबल पर कितने दिन रुकी, इसकी भी पूरी जानकारी मौजूद होगी। अगर किसी कर्मचारी या अफसर ने फाइल को अनावश्यक रोका तो उसके खिलाफ कड़ी कार्रवाई होगी।