Mp:मीटर रीडरों को 2 महीने से नहीं मिला वेतन,परेशान मीटर रीडर

Mp:मीटर रीडरों को 2 महीने से नहीं मिला वेतन,परेशान मीटर रीडर

केन्द्र व राज्य सरकारो के साथ साथ श्रमायुक्त कार्यालय से पारित आदेश का पालन नही किया जा रहा है आज केन्द्र व राज्य सरकारों व्दारा कोविड19 महामारी के बीच लॉकडाऊन में किसी भी श्रमिक की वेतन में किसी भी प्रकार की कटौती न करने की,की गई घोषणा व आदेश महज कागज बनकर धीरे-धीरे वक्त की पर्त में दवते नजर आ रहे है,म.प्र.पूर्व क्षेत्र बिध्दुत वितरण कम्पनी के बिजली मीटर रीडरो का माह मार्च व अप्रैल का भुगतान आज दिनांक तक नही किया गया है मीटर रीडरो को सरकारो के आदेश व घोषणायें महज औपचारिकताऐं लग रही है,क्योंकि धरातल पर वास्तविकता ये है कि म.प्र. पूर्व क्षेत्र बिध्दुत वितरण कम्पनी में मीटर रीडरो का माह मार्च व अप्रैल का भुगतान कराने  

में न कम्पनी रूची ले रही है न ही केन्द्र व राज्य सरकारो में अपने आदेश व घोषणा का सख्ति से पालन कराने में कोई दिलचस्पी दिखाई दे रही है,जिससे मीटर रीडर जैसे करोड़ो श्रमिक अपने परिवार का भरण पोषण करने के लिए आर्थिक व मानसिक रूप से परेशान है|जबकि बिजली उपभोक्ताओं को कोविड१९ महामारी में लॉकडाऊन रहने पर म.प्र.सरकार ने अपनी रूची दिखाते हु़ये 623 करोड़ रूपये की राहत दी है, सरकार एक है मगर दुहरे मापदण्ड  के चलते मीटर रीडर जैसे लाखो कर्मचारी/ श्रमिक,माह मार्च व अप्रैल का भुगतान लेने के लिए केन्द्र व राज्य सरकार के आदेश व घोषणाओं के सबूत लिए अपने संबंधित विभागो व कम्पनी एवं संस्थानो के चक्कर काटने के साथ साथ आज दर दर भटकने के लिए मजबूर है|