इंदौर में कांग्रेस शहर अध्यक्ष समेत कांग्रेस विधायक ने दी गिरफ्तारी

इंदौर में कांग्रेस शहर अध्यक्ष समेत कांग्रेस विधायक ने दी गिरफ्तारी

इंदौर में पिछले 3 दिन से जारी सियासी ड्रामे में कांग्रेस और भाजपा दोनों ही नेताओं ने सोशल डिस्टेंसिंग की धज्जियां उड़ा दी। बिना अनुमति राजवाड़ा पर धरना देने के मामले में रविवार को कांग्रेस विधायक संजय शुक्ला, विशाल पटेल और शहर अध्यक्ष विनय बाकलीवाल ने सराफा थाने में गिरफ्तारी दी।तीनों नेताओं ने सबसे पहले मां अहिल्या का आशीर्वाद लिया फिर थाने पहुंचे पुलिस ने कुछ ही देर में जमानत के बाद रिहा कर दिया|

 

इस दौरान सराफा थाने में बड़ी संख्या में पुलिस बल तैनात किया गया था। कांग्रेस के शहर अध्यक्ष विनय बाकलीवाल ने कहा की जनता के तीन चुने प्रतिनिधि और संगठन का प्रमुख होने के नाते हम चारों सोशल डिस्टेंस का पालन करते हुए धरने पर बैठे थे। जिस इलाके में पूर्व विधायक सुदर्शन गुप्ता ने राशन वितरण के लिए ढाई हजार लोगों की भीड़ इकट्ठा की व कंटेनमेंट एरिया है। वहीं कई संक्रमित है और 5 की मौत हो चुकी है इसके बाद भी इतना बड़ा आयोजन बिना अनुमति के और केस दर्ज नहीं किया गया। हम जिस आयोजन की बात कर रहे हैं वह  केंद्रीय मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर के जन्मदिन का आयोजन था जहां सैकड़ों गरीब परिवार की महिलाओं को इकट्ठा किया गया राशन के लिए जुटी भीड़ सोशल डिस्टेंसिंग को भूल गई और जमकर धक्का-मुक्की हुई थी।

इस पूरे मसले पर जीतू पटवारी ने सोशल मीडिया पर बयान दिया है उन्होंने कहा है कि कलेक्टर मनीष सिंह एक अच्छे एडमिनिस्ट्रेटिव ऑफिसर माने जाते हैं हम उनका सम्मान करते हैं क्या आप इतने दबाव में काम करेंगे हम पर तत्काल केस और भाजपा नेता ने हजारो की भीड़ एकत्रित कि उस पर 24 घंटे बाद केस यह गलत हैं। जीतू पटवारी ने कहा कि भाजपा द्वारा यदि सुदर्शन गुप्ता पर भी कुछ कार्यवाही की जाती तो अच्छा रहता। कांग्रेस शहर अध्यक्ष विनय बाकलीवाल ने कहा कि इतना बड़ा आयोजन किया गया बिना अनुमति के और केस दर्ज नहीं किया गया कांग्रेस ने शिकायत की तो धारा 188 में केस दर्ज किया गया हम परमिशन मांगते हैं तो हमें स्वीकृति नहीं मिलती जो धारा हम पर लगी है वह गलत है बाकलीवाल आने पूर्व विधायक सुदर्शन गुप्ता पर धारा बढ़ाने के साथ गिरफ्तारी की मांग भी की है।