MP: महिला एवं बाल विकास विभाग ने 1027 कर्मचारियों को नौकरी से निकाला

MP: महिला एवं बाल विकास विभाग ने 1027 कर्मचारियों को नौकरी से निकाला

1027 कर्मचारियों के सामने अब रोजी-रोटी का संकट आ खड़ा हुआ है।महिला एवं बाल विकास विभाग में पोषण अभियान योजना में काम कर रहे हजार से ज्यादा कर्मचारियों को नौकरी से निकाल दिया गया| इन कर्मचारियों से लॉकडाउन के दौरान सेवाएं ली गई और लॉकडाउन खत्म होने के बाद इनकी सेवाएं समाप्त कर दी गई है। अब इन कर्मचारियों के सामने रोजी रोटी का संकट है।

पोषण अभियान योजना में 1027 कर्मचारियों की अप्रैल से सेवाएं समाप्त करने की सूचना जारी कर दी गई थी लेकिन इसके बावजूद भी जरूरत पड़ने पर इनकी सेवाएं लॉकडाउन के दौरान भी विभाग ने ली| इन्हें नौकरी से नहीं निकाला। लेकिन लॉकडाउन खत्म होने के बाद कर्मचारियों की सेवाएं समाप्त कर दी गई और उन्हें नौकरी से निकाल दिया गया है। बता दे कि सभी कर्मचारी 2016 से नौकरी कर रहे थे।कर्मचारी संगठनों ने कहा कि अप्रैल में सेवा समाप्त करने के बाद भी विभाग में मार्च से जून तक कोरोना संक्रमण में उनकी जगह ड्यूटी लगाई गई इन कर्मचारियों ने अपनी जान जोखिम में डालकर कोरोना संक्रमण में  डट कर नौकरी भी की इसके बावजूद भी विभाग ने इन कर्मचारियों का ध्यान नहीं रखा और इन्हीं कॉन्ट्रैक्ट खत्म होने के नाम पर हटा दिया।कर्मचारी संगठनों ने मांग की है कि विभाग इन सभी कर्मचारियों को फिर से नौकरी पर रखे।