MP में कांग्रेस को लगा एक और झटका, नेपानगर विधायक सुमित्रा देवी ने दिया इस्तीफा

MP में कांग्रेस को लगा एक और झटका, नेपानगर विधायक सुमित्रा देवी ने दिया इस्तीफा

मध्य प्रदेश कांग्रेस के हाथ से सत्ता जाने के बाद अब लगातार कांग्रेस को झटका लगता जा रहा है।मध्य प्रदेश कांग्रेस में विधायकों की संख्या कम होती जा रही एक के बाद एक कांग्रेस पार्टी से विधायक दल बदल कर बीजेपी में शामिल हो रहे हैं। 23 विधायकों के इस्तीफे के बाद अब बुरहानपुर की नेपानगर विधानसभा सीट से कांग्रेस विधायक सुमित्रा देवी ने भी विधायक पद से इस्तीफा दे दिया है।विधानसभा सचिवालय को दो लाइन में भेजे गए इस्तीफे में सुमित्रा देवी ने पद से त्यागपत्र देने की बात लिखी थी जिसे विधानसभा सचिवालय ने स्वीकार कर लिया है। कांग्रेसी विधायकों के इस्तीफे के बाद से कांग्रेस में हलचल मची है उपचुनाव नजदीक है और ऐसे में विधायकों का इस्तीफा देना कांग्रेस के लिए मुश्किल खड़ी कर सकता है। बता दे की सुमित्रा देवी ने 2018 के विधानसभा चुनाव में कांग्रेस के टिकट पर चुनाव लड़ा और बीजेपी के कब्जे वाले नेपानगर सीट पर विजय हासिल की थी। लेकिन आप सुमित्रा देवी आज दल बदलकर बीजेपी में जाने को तैयार नजर आ रही हैं। हालांकि अभी तक सुमित्रा देवी ने इस पूरे मामले पर कुछ भी नहीं कहा है जानकारी के मुताबिक सुमित्रा देवी बीजेपी के बड़े नेताओं की मौजूदगी में भाजपा की सदस्यता ले सकती है।

कमलनाथ ने बीजेपी पर साधा निशाना

इसमें प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष कमलनाथ की प्रतिक्रिया भी सामने आई है कमलनाथ ने कहा है ‘यह तो पहले से बोलता आ रहा हूं कि बीजेपी बोली लगाने की राजनीति कर रही है जिसमें संविधान और सिद्धांतों की चिंता नहीं, है वह पार्टी जो कहती रही है कि हम नैतिक और स्वस्थ राजनीति करते हैं आज पूरे देश में सबसे घटिया और सौदेबाजी की राजनीति बीजेपी कर रही है।

ज्योतिरादित्य सिंधिया ने किया स्वागत

सुमित्रा देवी के इस्तीफे पर राज्यसभा सांसद व बीजेपी नेता ज्योतिरादित्य सिंधिया का बयान भी सामने आया है। ज्योतिरादित्य सिंधिया ने सुमित्रा देवी के निर्णय को सही बताया। ज्योतिरादित्य सिंधिया ने ट्विटर के माध्यम से सुमित्रा देवी को बधाई दी है। सिंधिया ने ट्वीट कर लिखा कि मध्य प्रदेश के नेपानगर विधानसभा सीट से कांग्रेस विधायक श्रीमती सुमित्रा कासडेकर के कांग्रेस छोड़कर भाजपा परिवार में शामिल होने पर उनका स्वागत करता हूं एक और विधायक द्वारा प्रदेश में लिया गया सही निर्णय।