मप्र: अनलॉक-2 का 31वां दिन: सीएम बोले- चुनाव से ज्यादा जरूरी लोगों की जान बचाना, सख्ती करें

मप्र: अनलॉक-2 का 31वां दिन: सीएम बोले- चुनाव से ज्यादा जरूरी लोगों की जान बचाना, सख्ती करें

त्यौहार को देखते हुए रविवार के लॉकडाउन में छूट को लेकर आज हो सकता है कोई निर्णय शुक्रवार सुबह की रिपोर्ट में भोपाल में 166 और इंदौर में 112 नए पॉजिटिव मिले हैं. इसके बाद प्रदेश में अब कोरोना संक्रमितों की संख्या 31710 हो गई है. अभी इसमें अन्य जिलों के आंकड़े नहीं जोड़े गए हैं. अब तक कोरोना के कारण 857 लोग अपनी जान गंवा चुके हैं. प्रदेश में रविवार के संपूर्ण लॉकडाउन को लेकर आज कोई निर्णय लिया जा सकता है. पिछले चौबीस घंटों के दौरान प्रदेश भर में 834 नए मामले सामने आए. राहत देनी वाली बात यह है कि 723 मरीजों के स्वस्थ होने के बाद इस बीमारी से अब तक 21657 मरीज ठीक हो चुके हैं. अभी 8454 एक्टिव केस मरीज हैं, जिनका प्रदेश के विभिन्न अस्पतालों एवं संस्थागत क्वारैंटाइन सेंटर में इलाज चल रहा है. नए मरीज में शुक्रवार को सबसे अधिक 166 मामले राजधानी भोपाल में और इंदौर में 112 मामले सामने आए हैं. इसके अलावा गुरुवार शाम तक ग्वालियर में 44, जबलपुर में 47, बड़वानी में 73, सीहोर में 27, सतना में 18, नरसिंहपुर में 17, रीवा में 25, रतलाम में 21, सागर में 16, खंडवा में 13, धार में 16, रायसेन में 13, छिंदवाड़ा में 18, बालाघाट में 16, उज्जैन में 12, मुरैना में 12, के अलावा अन्य जिलों में भी कोरोना के नए मामले मिले चुके थे. इसी प्रकार प्रदेश में 13 नई मौत दर्ज की गई, जिसमें इंदौर में 2, भोपाल में 5, बुरहानपुर में 1, छतरपुर में 1, विदिशा में 1, सीहोर में 1, दतिया में 1, सतना में 1 व्यक्ति की मौत हुई है. मध्यप्रदेश के शिवराज सिंह चौहान अब कोरोना संक्रमण को लेकर ज्यादा सख्त हो गए हैं. उन्होंने कहा- चुनाव से ज्यादा जरूरी लोगों की जान बचाना है. नेता सार्वजनिक रूप से न तो रैली करें और न ही सभाएं. बहुत जरूरी हो तो घर पर सिर्फ पांच लोगों से ही मुलाकात करें. अस्पताल से ही समीक्षा के दौरान मुख्यमंत्री ने भोपाल और इंदौर समेत प्रदेश भर में बढ़ रहे संक्रमण पर चिंता भी व्यक्त की.

शिवराज के निर्देश-

  1. मास्क और फिजिकल डिस्टेंसिंग का अनिवार्य रूप से पालन करके ही हम कोरोना संक्रमण पर पूरा नियंत्रण कर पाएंगे.
  2. लॉकडाउन खुलने पर यदि इसका पालन नहीं किया जाता है, तो पुनः संक्रमण फैल जाता है. सारी मेहनत बेकार जाती है.
  3. दूसरी ओर लॉकडाउन करने से अर्थव्यवस्था बुरी तरह प्रभावित होती है. अब वर्तमान घोषित लॉकडाउन के पश्चात लॉकडाउन नहीं करना है तथा पूरी सावधानी एवं सतर्कता के साथ विधि एवं नियमों का पालन करते हुए कोरोना को हराना है.
  4. कोई भी व्यक्ति चाहे वह मुख्यमंत्री हो, मंत्री हो, जनप्रतिनिधि हो अथवा अधिकारी हो, यदि उन्होंने इसका पालन नहीं किया तो फिर कार्यवाही होगी.
  5. आगामी 14 अगस्त तक कोई सार्वजनिक दौरे नहीं करें, वीसी के माध्यम से बैठकें करें, वर्चुअल रैली करें, अपने आवास पर भी एक बार में 5 से अधिक व्यक्तियों से न मिलें.
  6. कोई भी जनप्रतिनिधि कोई भी सार्वजनिक कार्यक्रम न करे. गाइडलाइंस का पालन न करने पर जुर्माने तथा प्रकरण दर्ज करने की कार्रवाई की जाएगी.
  7. प्रकरणों में वृद्धि हुई है, परंतु अभी भी तुलनात्मक रूप से देश में कोरोना संक्रमण में प्रदेश का स्थान 15वां है.
  8. वर्तमान में प्रदेश में 8454 एक्टिव केस हैं, प्रदेश का रिकवरी रेट 69.9 है तथा मृत्यु दर घटकर 2.77 हो गई है.
  9. प्रदेश में 21657 कोरोना संक्रमित व्यक्ति स्वस्थ होकर घर जा चुके हैं. आज की स्थिति में प्रदेश में प्रतिदिन टेस्टिंग क्षमता 9156 प्रति दस लाख है.

इंदौर जिले में 112 नए मिलने के बाद कोरोनावायरस से संक्रमितों की संख्या 7328 तक जा पहुंच गई है. इनमें से अब तक 5036 रोगियों को स्वस्थ होने पर डिस्चार्ज किए जाने के बाद एक्टिव केस 1981 है. कल 50 वर्षीय एक महिला की मौत होने के बाद मृतकों की संख्या 311 तक हो गई है. अब तक 5036 रोगियों को स्वस्थ होने पर छुट्टी दी जा चुकी है. राजधानी में संपूर्ण लॉकडाउन के बाद भी कोरोना के मामले थमने का नाम नहीं ले रहे हैं. गुरुवार को जहां 218 मामले मिले थे, जो शुक्रवार सुबह 166 संदिग्धों में संक्रमण की पुष्टि हुई. हालत यह हैं कि अब पॉजिटिव मरीज को घर पर छोड़कर स्वास्थ्य का अमला बच्चों को क्वारैंटाइन सेंटर पहुंचाने लगा है. गुरुवार को टीला जमालपुरा इलाके में ऐसे ही एक मामले में कोरोना पॉजिटिव महेश कुमार साहू को लेने 24 घंटे बाद भी एंबुलेंस लेने नहीं पहुंची, उन्हें खुद ही कार चलाकर अस्पताल में भर्ती होने के लिए जाने पड़ा. जबकि उनके बेटा और बेटी को बिना टेस्ट के ही क्वारैंटाइन सेंटर पहुंचा दिया गया. भोपाल में अब संक्रमितों की संख्या 6549 हो गई है. मुरैना में कोरोना संक्रमण पर प्रभावी नियंत्रण पा लिया गया है. मुख्यमंत्री ने कहा कि गत दिनों जिस तरह से वहां संक्रमण फैला, उसके बाद जिस तत्परता के साथ वहां इसे रोकने के प्रयास किए गए, वे सराहनीय हैं. अब वहां कोरोना पॉजिटिविटी रेट घटकर 3.03% हो गया है. मुरैना ने उदाहरण प्रस्तुत किया है. ग्वालियर में भी अब स्थिति नियंत्रण में है. वहां बाजार खुल गए हैं. ग्वालियर में कोरोना की मृत्यु के प्रकरणों की समीक्षा के दौरान पाया कि चार प्रकरणों में बहुत देर से और गंभीर हालत में अस्पताल आने के कारण व्यक्तियों की जान नहीं बचाई जा सकी. बैतूल जिले में आज कोरोना संक्रमण के 8 नए मामले सामने आने के बाद कुल मरीजों की संख्या बढ़कर 227 हो गई है. अभी तक 170 मरीज स्वस्थ हो गए हैं. शेष संक्रमित 54 मरीजों का उपचार जारी है. उन्होंने बताया कि कोरोना वायरस के कारण अभी तक तीन लोगों की जान जा चुकी है. सीहोर जिले में कोरोना संक्रमण के शिकार एक व्यक्ति की आज भोपाल में मौत के बाद कुल मृतकों की संख्या नौ हो गई. आष्टा तहसील के भूगोड़ निवासी एक वृद्ध को हृदय रोग के कारण भोपाल के हमीदिया अस्पताल भोपाल में भर्ती कराया था. जांच के दौरान वे कोरोना संक्रमित पाए गए. उनकी उपचार के दौरान मौत हो गई. सीहोर जिले में पांच व्यक्तियों की कोरोना संक्रमण की रिपोर्ट पॉजीटिव पाई गई है और इनकी संख्या बढ़कर 258 हो गई है.