राम मंदिर भूमिपूजन: दिग्विजय ने मुहूर्त को अशुभ बताते हुए कहा कि इसी कारण कई नेता कोरोना संक्रमित

राम मंदिर भूमिपूजन: दिग्विजय ने मुहूर्त को अशुभ बताते हुए कहा कि इसी कारण कई नेता कोरोना संक्रमित

कांग्रेस नेता दिग्विजय सिंह ने तंज कसते हुए कहा कि सनातन हिंदू धर्म की मान्यताओं को नजरअंदाज करने का नतीजा है कि केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह कोरोना पॉजिटिव पाए गए. राम मंदिर का भूमि पूजन आज से अयोध्या में शुरू हो रहा है. इस बीच, पूजन के मुहूर्त को लेकर राजनीतिक बयानबाजी भी तेज हो गई है. मध्य प्रदेश के पूर्व सीएम और कांग्रेस के दिग्गज नेता दिग्विजय सिंह  ने मंदिर पूजन के मुहूर्त और गृह मंत्री अमित शाह से लेकर मंदिर के पुजारी के कोरोना संक्रमण को इससे जोड़ दिया है. उन्होंने कहा कि सनातन धर्म और हिंदू परंपराओं के उल्लंघन का नतीजा है यह. दिग्विजय ने एक के बाद एक सिलसिलेवार ट्वीट करते हुए कहा कि मंदिर पूजन के लिए हिंदू धर्म की मान्यताओं को नजरअंदाज किया गया है. उन्होंने कहा कि इसी के कारण देश गृह मंत्री अमित शाह से लेकर राम मंदिर के पुजारी तक कोरोना संक्रमित हो गए हैं. दिग्विजय ने आज ट्वीट कर लिखा, 'सनातन हिंदू धर्म की मान्यताओं को नजरअंदाज करने का तरीका. 1- राम मंदिर के समस्त पुजारी कोरोना पॉजिटिव. 2- उत्तर प्रदेश की मंत्री कमला रानी वरुण का कोरोना से स्वर्गवास. 3 उत्तर प्रदेश के बीजेपी अध्यक्ष कोरोना पॉजिटिव, अस्पताल में. उन्होंने एक और ट्वीट में लिखा, ' 4-भारत के गृह मंत्री अमित शाह कोरोना पॉजिटिव अस्पताल में. 5-मध्य प्रदेश में बीजेपी के मुख्यमंत्री और बीजेपी के प्रदेश अध्यक्ष कोरोना पॉजिटिव, अस्पताल में. 6- कर्नाटक में बीजेपी के सीएम कोरोना पॉजिटिव, अस्पताल में.' कई संतों के अलावा काशी के ज्योतिष भी तय मुहूर्त पर प्रश्न उठा रहे हैं. शंकराचार्य स्वपरूपानंद सरस्वती ने भूमि पूजन के तय वक्त को अशुभ बताया था. इससे पहले उनके शिष्य स्वामी अविमुक्तेश्वरानंद सरस्वती ने भी अपने फेसबुक पेज पर पोस्ट कर मंदिर के शिलान्यास की तय तिथि यानि 5 अगस्त को अशुभ बताया था. काशी के संतों के साथ ही ज्योतिषी मंदिर शिलान्यास को लेकर तय मुहूर्त पर सवाल खड़े कर रहे हैं. संतों और ज्योतिषियों के अनुसार, मंदिर के शिलान्यास के लिए तय इस तारीख के मुहूर्त से समय को उस दिन का सबसे अशुभ समय बताया जा रहा है. शंकराचार्य स्वरूपानंद सरस्वती ने भूमि पूजन के तय वक्त को शुभ नहीं बताया है. उन्होंने कहा कि 5 अगस्त को दक्षिणायन भाद्रपद मास कृष्ण पक्ष की द्वितीया तिथि है. शास्त्रों में भाद्रपद मास में गृह, मंदिरारंभ कार्य निषिद्ध है. उन्होंने इसके लिए विष्णु धर्म शास्त्र और नैवज्ञ बल्लभ ग्रंथ का हवाला दिया.