पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह ने जरी किया गद्दार रेट कार्ड

पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह ने जरी किया  गद्दार रेट कार्ड

 मध्य प्रदेश के सियासी रण में इन दिनों उपचुनाव की जंग छिड़ी हुई है। इस जंग में राजनीतिक योद्धा  विपक्षी नेताओं पर आरोप लगाने से कतई बाज नहीं आ रहे हैं तो वही हमेशा की तरह पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह ने एक बार फिर सुर्खियो में है इन कारण यह है कि दिग्विजय सिंह ने सोशल मीडिया पर गद्दार रेट कार्ड पोस्ट किया है जिससे एमपी की सियासत में उफान है उपचुनाव में सिंधिया समर्थक भाजपा प्रत्याशी लगातार कांग्रेस के निशाने पर हैं पार्टी उन्हें गद्दार करार देकर मतदाताओं से चुनाव हराने की अपील कर रही है। इस बीच पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह ने  चुनाव लड़ रहे बीजेपी प्रत्याशियों का रेट कार्ड जारी किया है।  जिसे गद्दार रेट कार्ड नाम दिया गया है इस रेट कार्ड में कांग्रेस छोड़कर बीजेपी में शामिल हुए 25 प्रत्याशियों के नाम और फोटो दर्ज हैं दिग्विजय सिंह के इस गद्दार रेट कार्ड ने मध्य प्रदेश की सियासत में तूफान ला दिया है। भाजपा ने मामले की शिकायत चुनाव आयोग से की है दिग्विजय सिंह ने शनिवार सुबह अपने ट्विटर अकाउंट पर गद्दार रेट कार्ड जारी किया इसके जरिए उन्होंने सिंधिया समर्थक चुनाव लड़ रहे अन्य भाजपा प्रत्याशियों पर निशाना साधते हुए उन पर 35  35 करोड़ रुपए में बिकने का आरोप लगाया है। 2018 के विधानसभा चुनाव में इन नेताओं को जो वोट मिले थे उसे 35 करोड से विभाजित कर एक वोट की कीमत निकाली गई है रिपोर्ट की औसत कीमत 3775 से लेकर 5770 तक निकल रही है। इस हिसाब से सभी बीजेपी प्रत्याशियों से उतना पैसा लेने की अपील मतदाताओं से की गई है दिग्विजय सिंह ने कहा कि ₹35 विधायकों ने लिए हैं तो यह बात ठीक है कितने वोट मिले तो आखिर जनता का भी तो वही खाता होता है। इसके साथ ही कांग्रेस का दामन छोड़ बीजेपी में शामिल हुए नेताओं पर तमाम गंभीर आरोपों के साथ दिग्विजय सिंह ने जबसे गद्दार रेट कार्ड जारी किया है तब से वे एमपी की राजनीति में सुर्ख़ियों में  हैं