फरियादी के पीठ में घोंपा गया था खंजर थाना में पुलिस देखती रही तमाशा ।

फरियादी के पीठ में घोंपा गया था खंजर थाना में पुलिस देखती रही तमाशा ।

मौजूदा समय में जनता की सुरक्षा करने वाले पुलिसकर्मियों पर ही कई सवाल खड़े हो रहे हैं उत्तर प्रदेश के हाथरस के बाद देश के तमाम जगहों से पुलिस की लापरवाही की खबरें सामने आ रही है तो वहीं मध्य प्रदेश के रीवा सहित अन्य जगहों से भी पुलिस की लापरवाही उजागर हो रही है लॉक डाउन में जिस तरह पुलिस देवता बनकर सामने आई थी तो वही पुलिस का दूसरा चेहरा भी सामने  आ रहा है उस पर क्रूरता का आरोप लगाया जा रहा है। ताजा मामला जबलपुर के गढ़ा थाना से सामने आया है जहां एक युवक की पीठ में खंजर घुसा हुआ था और पुलिस उसका इलाज करवाने के बजाय उसे थाने में खड़ा करके एक से ज्यादा घंटे तक पूछताछ करती रही यह मामला पुलिस वालों के संवेदनहीन रवैया को दर्शाता है यह फोटो जबलपुर के गढ़ा थाना का बताया जा रहा है जहां युवक का नाम सोनू है वह हमलावर के खिलाफ मामला दर्ज कराने थाने में आया था पुलिस को उसे तत्काल मेडिकल के लिए ले जाना चाहिए था लेकिन पुलिस ने सबसे पहले कागजी कार्यवाही शुरू की और  खड़ा रहा सोनू ने बताया कि शुक्रवार शनिवार की दरमियानी रात उसके घर के बाहर गोलू और उसके साथियों ने उस पर हमला किया है चाकू उसकी भीड़ में घुस गया था लगातार खून निकल रहा था परंतु पुलिस उसे अस्पताल ले जाने के बजाय मामला दर्ज करने की कागजी कार्यवाही में लगी रही