एमपीईबी के जरिए  कांस्टेबल के 4000 पदों पर निकली भर्ती   हाईकोर्ट ने ओबीसी के 27% आरक्षण पर लगा रखी रोक

एमपीईबी के जरिए  कांस्टेबल के 4000 पदों पर निकली भर्ती   हाईकोर्ट ने ओबीसी के 27% आरक्षण पर लगा रखी रोक

 मध्यप्रदेश में पुलिस भर्ती को लेकर युवा काफी समय से संघर्ष कर रहे है एमपी में पिछले 4 सालों से पुलिस विभाग में भर्तियां नहीं निकली पुलिस की नौकरी की चाह रखने वाले युवाओं की उम्र वैकेंसी के इंतजार में बढ़ती रही है लेकिन मध्य प्रदेश सरकार ने पीईबी के जरिए  पुलिस कांस्टेबल के 4000 पदों पर भर्ती निकाली है जिसके लिए आवेदन की प्रक्रिया 24 दिसंबर से शुरू हो जाएगी वही आवेदन करने की अंतिम तिथि 7 जनवरी निर्धारित की गई है भर्ती परीक्षा का विज्ञापन जारी होने के बाद एक नया विवाद सामने आ गया है जिसके कारण परीक्षा में शामिल होने वाले 4 साल से इंतजार कर रहे  यूवाओं को बड़ा झटका लगा है|  सवाल उठता है कि क्या मध्य प्रदेश में होने वाले उपचुनाव को  देखते हुये  पुलिस भर्ती निकाली गई है जब प्रदेश में सरकारी पदों की भर्ती को लेकर बड़े-बड़े आंदोलन हो रहे थे तब सरकार क्यों  चुप थी क्या इसी वक्त का इंतजार था|  दरअसल प्रदेश में एक लंबे अंतराल के बाद पुलिस भर्ती परीक्षा हो रही है परीक्षा में शामिल होने की अधिकतम उम्र सीमा 33 साल तय की गई है आपको बता दें कि उम्र सीमा नहीं बढ़ाए जाने की वजह से प्रदेश के करीब तीन लाख  उम्मीदवार इस परीक्षा में शामिल नहीं हो सकेंगे यह आंकड़ा एक चौका देने वाला है जबकि उम्मीदवारों के द्वारा सरकार से उम्र सीमा बढ़ाने को लेकर मांग शुरू कर दी गई है लेकिन सरकार की तरफ से उम्र सीमा बढ़ाने का कोई प्रस्ताव सामने नहीं आया है इसका अच्छा खासा असर  प्रदेश के पुलिस भर्ती सेवा परीक्षार्थियों के भविष्य पर पड़ने वाला है वहीं दूसरी तरफ आरक्षण को लेकर थी मध्यप्रदेश में विवाद जारी है  लेकिन इस भर्ती में ओबीसी वर्ग के आरक्षण पर अभी संशय बना हुआ है एक तरफ जहां सरकार ने ओबीसी वर्ग को 27% आरक्षण दे रखा है तो वहीं दूसरी तरफ हाईकोर्ट ने इस पर रोक लगा रखी है हलाकि इस मामले में भी लगातार सरकार को घेरा जा रहा है जानकारी के अनुसार इस बार एक खास बात जरुर है की अन्य प्रदेश के लोग इस बार पुलिस भर्ती परीछा में फॉर्म नहीं भर सकते है