लव जिहाद का कानून बनने से पहले ही राजधानी भोपाल से आया लव जिहाद का केस

लव जिहाद का कानून बनने से पहले ही राजधानी भोपाल से आया लव जिहाद का केस

मध्य प्रदेश की सरकार लव जिहाद पर सख्त से सख्त कानून बनाने की तैयारी कर रही है। बीजेपी द्वारा लगातार यह बयान सामने आ रहे हैं लव जिहाद के कानून को ज्यादा से ज्यादा सख्त बनाया जाएगा। इन सबके बीच लव जिहाद के खिलाफ विधेयक आने से पहले ही राजधानी भोपाल में लव जिहाद का एक मामला सामने आ गया है। लव जिहाद की शिकार युवती मदद के लिए प्रदेश के गृह मंत्री नरोत्तम मिश्रा के बंगले पहुंची गृह मंत्री ने भोपाल डीआईजी को इस मामले की जांच का आदेश दे दिया है और पीड़ित युवती को मदद का भरोसा दिलाया है।युवती का कहना है कि गेहूं खेड़ा इलाके में रहने वाले युवक से उसकी करीब साल भर पहले मुलाकात हुई थी उस वक्त युवक ने अपना नाम उमेश बताया और पीड़ित युवती से मंदिर में शादी कर ले शादी के बाद एक बच्चा भी है।पीड़ित युवती का आरोप है कि काफी दिनों तक उसका पति अपना नाम बदलकर उमेश बनकर ही उसके साथ रहा लेकिन बाद में उसका असली चेहरा सामने आया पति का असली नाम उमेश नहीं सलमान है।सच्चाई सामने आने के बाद पीड़ित युवती का पति अब उस पर धर्म परिवर्तन के लिए दबाव बना रहा है इतना ही नहीं धर्म परिवर्तन ना करने की वजह से उसे घर में प्रताड़ित भी किया जा रहा है पीड़ित युवती की मानें तो आरोपी पति ने उसके बच्चे को भी मारने की कोशिश की है।पूरे मामले को लेकर पीड़ित युवती गृह मंत्री नरोत्तम मिश्रा के बंगले पहुंची और पीड़ित के आरोपों के आधार पर गृह मंत्री नरोत्तम मिश्रा ने कहा है कि मामले की जांच की जाएगी और दोषी के खिलाफ कार्यवाही की जाएगी। लव जिहाद का कानून बनने से पहले ही ऐसे मामले सामने आ रहे हैं पर इन मामलों को ध्यान में रखते हुए सरकार और सख्ती से कानून बनाने की बात कह रही है। बता दे की हाल ही में लव जिहाद के कानून का ड्राफ्ट तैयार कर लिया गया है जिसके तहत लव जिहाद के आरोप सही पाए जाने पर दोषी के खिलाफ 10 साल की सजा हो सकती है।