नए मॉडल पर आगे बढ़ रही शिवराज सरकार, 16 लाख से अधिक मजदूरों को मिला काम

नए मॉडल पर आगे बढ़ रही शिवराज सरकार, 16 लाख से अधिक मजदूरों को मिला काम

मध्यप्रदेश की शिवराज सरकार ने गांव में कुपोषण को रोकने के लिए बड़ी योजना को अमल में लाने की तैयारी शुरू कर दी है सरकार ने 1600000 से अधिक प्रवासी और गरीब मजदूरों को काम भी दिया है बता दें कि यह पहला मौका है जब मध्यप्रदेश में इतने मजदूरों को काम मिला है इसके साथ ही इस मामले में तैयारी शुरू कर दी गई है दरअसल मध्य प्रदेश में 1 लाख हेक्टेयर बंजर भूमि को उपजाऊ बनाने के लिए मध्य प्रदेश के 16 लाख से अधिक प्रवासी और गरीब मजदूरों की मदद ली जा रही है इस बंजर जमीन को उपजाऊ बनाने के लिए ग्रामीण स्तर पर पोषण वाटिका बनाई जाएगी जिससे प्रदेश में फैल रहे कुपोषण को रोका जाएगा। इस मामले में मनरेगा कमिश्नर का कहना है कि लक्ष्य को इसी वर्ष हासिल करने की समय सीमा निर्धारित की गई है और इस कार्य के लिए सहायता समूह को भी जोड़ा जाएगा पोषण वाटिका में ऐसी सब्जियां लगाई जाएंगी जो महिलाओं और बच्चों के लिए हितकारी होगी।बता दे की पूरी योजना की जानकारी शासन स्तर पर दे दी गई है और इसी मॉडल पर आगे कार्य करने की तैयारी की जा रही है मुख्यमंत्री जय किसान योजना प्रदेश में लागू है जिसके तहत बंजर भूमि को ठीक किया जाएगा प्रदेश में कुपोषण पर बोलते हुए गृह मंत्री नरोत्तम मिश्रा ने भी कहा था कि प्रदेश की सरकार इस मामले में बहुत सजग है कि कुपोषण से प्रदेश में किसी की भी मृत्यु ना हो इसके लिए जागरूकता कार्यक्रम भी आयोजित किए जाएंगे और इसी क्रम में अब प्रदेश सरकार ने गांव में कुपोषित हो रहे बच्चों के लिए इस योजना का ऐलान किया है जिसके तहत पहले तो 16 लाख से अधिक प्रवासी और गरीब मजदूरों को काम दिया जाएगा और बंजर जमीन को उपजाऊ बनाएग जाएगा और पोषण वाटिका का निर्माण भी किया जा रहा है।