पैदल चल रहे मजदूरों के लिए सरकार ने दी सुविधा, मजदूरों के लिए चलाई जाएंगी 375 बसे

पैदल चल रहे मजदूरों के लिए सरकार ने दी सुविधा, मजदूरों के लिए चलाई जाएंगी 375 बसे

महाराष्ट्र से होकर मध्य प्रदेश आने वाले या मध्य प्रदेश से गुजरने वाले मजदूरों के लिए एक अच्छी खबर है। मध्य प्रदेश सरकार ने पैदल सफर करने वाले मजदूरों के लिए बसें चलाने का फैसला किया है।पिछले दिनों में बहुत से ऐसे मजदूर थे जो पैदल चलकर कठिनाइयों का सामना कर अपने घर पहुंच रहे थे और अब उन मजदूरों के लिए प्रदेश सरकार ने बसें चलाने का फैसला लिया है। महाराष्ट्र और उत्तर प्रदेश की सीमाओं तक बसों को चलाया जाएगा। राज्य सरकार ने फिलहाल 375 बसें चलाने का फैसला किया है। यह बस महाराष्ट्र की सीमा से लगे सेंधवा से शुरू होकर यूपी के मुरैना तक जाएगी।इसके अलावा मुरैना से झांसी और देवास से छतरपुर के लिए भी बसें चलाई जाएंगी।

शिवराज सरकार ने पैदल सफर कर रहे मजदूरों के लिए यह फैसला लिया है। इन बसों का इंतजाम इलाके के कलेक्टरों को करना होगा| केंद्र सरकार के निर्देशों के बाद राज्य सरकार ने शुरुआती तौर पर 375 बसें चलाए जाने की मंजूरी दी है। बता दें कि इसमें सबसे ज्यादा बसे सेंधवा से देवास के लिए चलाई जाएंगी। इसके अलावा देवास से गुना, देवास से सागर, गुना से भिंड, गुना से दिनारा के लिए बस चलेगी। इसके बाद अलावा मुरैना- ग्वालियर- दतिया- झांसी, देवास से दौलतपुर और दौलतपुर से सागर मालथोन के लिए बसें चलाई जाएंगी राज्य सरकार ने बसों के रूट तय कर दिए हैं।