कर्मचारियों को मिलेगा मोबाइल खरीदने के लिए दस हजार रुपया

कर्मचारियों को मिलेगा मोबाइल खरीदने के लिए दस हजार रुपया

मध्यप्रदेश में आंगनबाड़ी वर्कर्स को बड़ा लाभ मिलेगा गुरुवार को नौवीं बार महिला विकास विभाग के टेंडर को कैंसिल किया गया है जिसके बाद अब आगनबाडी कार्यकर्ताओं को मोबाइल खरीदने के लिए शिवराज सरकार उनके खाते में डायरेक्ट पैसा डालेगी इसके लिए अगली कैबिनेट में प्रस्ताव लाया जाएगा दरअसल प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 2018 में पोषण अभियान की शुरुआत की थी इसमें 6 साल तक के बच्चे के पोषण और स्वास्थ्य की निगरानी के लिए आंगनवाड़ी वर्कर को मोबाइल फोन देने का फैसला किया गया था इसलिए कि सरकार ने वर्कर्स को मोबाइल देने के लिए पोषण अभियान में करोड़ों का बजट भी उपलब्ध कराया था लेकिन प्रदेश में 2 साल से आंगनवाड़ी वर्करों को मोबाइल नहीं मिला इसके बाद अब प्रत्येक आगनबाड़ी वर्कर के खाते में ₹10000 डाले जाएंगे जिससे वह अपने पसंद का मोबाइल खरीदेंगे इसे प्रदेश में 76000 से अधिक आंगनबाड़ी वर्करों को मोबाइल खरीदने के लिए खाते मैं कुल 76 करोड रुपए डाले जाएंगे प्रत्येक आंगनवाड़ी वर्कर के खाते में ₹10000 पहुंचेंगे प्रत्येक बच्चे का वजन और ऊंचाई मोबाइल फोन में हर महीने केंद्र के कॉमन एप्लीकेशन सॉफ्टवेयर अपलोड करना थी इसके साथ रियल टाइम मॉनिटरिंग के लिए आगनबाड़ी वर्कर अब खुद की पसंद का मोबाइल फोन खरीद सकेंगे जानकारी के अनुसार देश के सभी राज्यों में रियल टाइम मानिटरिंग का काम शुरू हो चुका है लेकिन मध्यप्रदेश में अब तक यह काम शुरू नहीं हो पाया है इसके बाद मोबाइल खरीदी में शिकायतों के चलते मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने महिला विकास विभाग के टेंडर को निरस्त कर दिया और इसके साथ ही केंद्र सरकार को पत्र लिखा था जहां उन्होंने आंगनवाड़ी वर्करों को डायरेक्ट बेनिफिट से राशि मंजूर की मां की थी केंद्र से मंजूरी मिलने के बाद अब आगनबाड़ी वर्करों को 4G मोबाइल खरीदने के लिए पैसे उनके खाते में डाले जाएंगे इसके लिए अगली कैबिनेट में प्रस्ताव लाया जाएगा आपको बता दें कि केंद्र सरकार ने विभाग की समीक्षा के दौरान स्पष्ट कर दिया है कि जनवरी तक अगर किसी भी राज्य में मोबाइल से रियल टाइम मीटिंग काम शुरू नहीं हुआ तो उस राज्य को असफल राज्य की श्रेणी में डाल दिया जाएगा इसके बाद शिवराज सरकार ने तत्परता दिखाई  हैं