एक ओर बैल तो दूसरी ओर मजदूर, बैलगाड़ी खीचकर घर को निकला श्रमिक||