मध्य प्रदेश में शराब प्रेमियों के लिए बुरी खबर, फिर बंद होंगी शराब की दुकाने

मध्य प्रदेश में शराब प्रेमियों के लिए बुरी खबर, फिर बंद होंगी शराब की दुकाने

प्रदेश में शराब का सेवन करने वालो के लिए एवं शराब प्रेमियों के लिए एक बुरी खबर हैं| बता दें की प्रदेश में फिर से शराब की दुकाने बंद हो सकती हैं| एसोसिएशन का कहना है कोरोना संक्रमण में जनता और अपने स्टाफ की सुरक्षा को देखते हुए शराब की दुकाने बंद करने का फैसला किया है| हालांकि, मुद्दा लाइसेंस फीस का है| बीते दिन एसोसिएशन से सदस्यों ने प्रदेश के गृहमंत्री नरोत्तम मिश्रा से इस संबंध में मुलाकात की थी| सरकार के आदेश के बावजूद एसोसिएशन ने शराब दुकानें न खोलने का फैसला लिया है| दरअसल शराब व्यवसायी लाइसेंस फीस कम करने की अपनी मांग पर अड़े हैं| मामला फिलहाल हाईकोर्ट में है| शराब विक्रेताओं का कहना है हमें मांगों पर रिलीफ नहीं मिला है, सिर्फ मौखिक आश्वासन मिला है| इसलिए जब तक कोर्ट से कोई फैसला नहीं आ जाता, हम दुकानें नहीं खोलेंगे| उधर, प्रशासन ने इन दुकान संचालकों के खिलाफ सख्ती शुरू कर दी है| तो वही कारोबारियों का दावा है कि भोपाल  में शराब की 90 दुकानें  हैं| इन्‍हें हर दिन के हिसाब से 3 करोड़ रुपए लाइसेंस फीस जमा करना होता हैं इसलिए लॉकडाउन-4.0 में रेड ज़ोन भोपाल, इंदौर और उज्जैन सहित पूरे प्रदेश में शराब की दुकानें नहीं खोलने का एलान लिकर एसोसिएशन ने किया है| शराब की दुकाने बंद करने की मुख्य वजह लाइसेंस फीस को लेकर सरकार और शराब व्यापरियों की टकराव मानी जा रहीं हैं|