मध्‍य प्रदेश विधानसभा उपचुनावों की घमासान से पहले BJP में अब कहां हैं सिंधिया

मध्‍य प्रदेश विधानसभा उपचुनावों की घमासान से पहले BJP में अब कहां हैं सिंधिया

मध्य प्रदेश के ग्वालियर में इन दिनों बीजेपी नेता ज्योतिरादित्य सिंधिया (Jyotiraditya Scindia) को लेकर लगाए गए उस पोस्टर के काफी चर्चे हैं जिसमें पूछा जा रहा है कहां गायब हैं सिंधिया? लापता सिंधिया के ये पोस्टर बेशक सियासत का हिस्सा हैं लेकिन सवाल जायज भी है कि वाकई बीजेपी में अब कहां हैं सिंधिया और एमपी की 24 सीटों के उपचुनाव हो जाने के बाद कहां होंगे?

24 में से ग्वालियर चंबल की 16 सीटें जिताने की नैतिक जिम्मेदारी सिंधिया के कंधों पर है जिसमें से 14 सीटें तो सीधे तौर पर सिंधिया समर्थक पूर्व विधायकों से जुड़ी हैं. बाकी मध्य, मालवा, बुंदेलखंड की पांच सीटें अलग. चुनाव के पहले चुनौती ये कि इनमें से कितने पूर्व विधायकों को सिंधिया मंत्री पद की शपथ दिलवा पाते हैं. फिर उन्हें चुनाव मैदान तक पहुंचाने की चुनौती अलग है. उम्मीदवार बनाए गए तो इनमें से 80 फीसद को जिताना भी है. सिंधिया के लिए बड़ा इम्तिहान बीजेपी के साथ जनता को ये बताना भी है कि वो शिवराज के मुकाबले के जननेता हैं. भीड़ उनके चेहरे पर भी जुटती है. क्या सिंधिया के ये इम्तिहान चुनाव के बाद भी खत्म हो पाएंगे?

राजनीति कयासों पर चलती है. लिहाजा इनकार नहीं किया जा सकता कि सिंधिया समर्थकों की वजह से बीजेपी में अगर बगावत बढ़ती है, तो बागी फिर मैदान में आएंगे और ये बागी चुनाव जीत गए तो तय है कि बीजेपी से हाथ भी मिलाएंगे. उस सूरत में सिंधिया क्या अपना रुतबा कायम रख पाएंगे. सवाल ये भी है कि बीजेपी वक्त देखकर दूल्हा किसी को भी बनाए. दामाद नहीं बनाती. चौधरी राकेश सिंह, प्रेमचंद गुड्डू , रामलखन सिंह, हरिवल्लभ शुक्ला, फूल सिंह बरैया, बालेंदू शुक्ला, लक्ष्मण सिंह...लंबी फेहरिस्त हैं ऐसे नामों की जो दूल्हा बनकर गए थे और बाराती बनकर कांग्रेस में लौट आए. तो 24 सीटों के उपचुनाव पर टिकी सिंधिया की सियासत क्या उनका ही सियासी भविष्य तय कर देगी और सवाल ये भी कि क्या अग्निपथ पर चल पड़े हैं सिंधिया?