मंदसौर : जुड़वा बच्चों के जन्म के दौरान मां को हुआ कोरोना  का  संक्रमण,   हुई मौत

मंदसौर : जुड़वा बच्चों के जन्म के दौरान मां को हुआ कोरोना  का  संक्रमण,   हुई मौत

 

कोरोना वायरस के संक्रमण से मौत के कई मामलों के बीच मंदसौर से एक बेहद मार्मिक खबर सामने आई है. यहां कोरोना से जुड़वा बच्चों की प्रसूता मां की मौत हो गई. डिलीवरी के दौरान उन्‍हें कोरोना संक्रमण हुआ था और फिर इंदौर  के अरबिंदो अस्पताल में इलाज चला था. महिला के पति ने मौत के लिए गांव के सरपंच पति पर आरोप लगाया है. उन्‍होंने बताया कि अस्पताल से ठीक होकर लौटने के बाद उन्‍हें गांव में घुसने नहीं दिया गया और क्‍वारंटीन सेंटर में उनकी ठीक से देखभाल नहीं हुई इसमें पप्रशाशन की लापरवाही भी डी देखी जा रही हैं

मंदसौर ज़िले में कोरोना से नौवीं मौत हुई है. जिस महिला की मौत हुई वो बांसखेड़ी गांव की रहने वाली थी. उन्‍होंने हाल ही में जुड़वा बच्चों को जन्म दिया था. डिलीवरी के दौरान ही वो कोरोना से संक्रमित हो गई थीं. संक्रमित होने के बाद उन्‍हें मंदसौर से इंदौर के अरबिंदो अस्पताल रेफर किया गया था. स्वस्थ होने पर उन्‍हें अस्पताल से डिस्चार्ज कर दिया गया था. महिला के पति का आरोप है कि लौटने पर बांसखेड़ी गांव के सरपंच के पति अनिल चौहान ने उन्हें गांव में नहीं घुसने दिया. महिला को क्‍वारंटाइन सेंटर भेज दिया गया. लेकिन, वहां अत्यधिक गर्मी और प्रसूता की ठीक से देखभाल न होने के कारण उनकी पत्नी की मौत हो गयी. महिला के पति का आरोप है कि क्‍वारंटाइन सेंटर में उन्‍हें अच्छा खाना नहीं दिया गया जो डिलीवरी के बाद दिया जाना चाहिए था. वहां भूख से उनकी तबियत बिगड़ गयी. महिला को पहले मंदसौर के कोविड-अस्पताल और फिर इंदौर के अरबिंदो अस्पताल रेफर कर दिया गया जहां मंगलवार को उनकी मौत हो गई. दोनों नवजात जुड़वा बच्चे स्वस्थ हैं.

गाइडलाइन का पालन
महिला के पति के इस गंभीर आरोप पर प्रशासनिक अधिकारियों का कहना है कि नियम और गाइडलाइन के तहत महिला को फिर से क्‍वारंटाइन सेंटर में भर्ती किया गया था. वहीं, गांव के सरपंच पति का कहना है उन्‍होंने महिला को गांव में आने से नहीं रोका, बल्कि अधिकारियों के आदेश के मुताबिक नियम का पालन किया गया.