Mukhtar Ansari को लेकर पहुंची यूपी पुलिस, बांदा जेल की बैरक नंबर 15 में रहेगा ‘बाहुबली’

Mukhtar Ansari को लेकर पहुंची यूपी पुलिस, बांदा जेल की बैरक नंबर 15 में रहेगा ‘बाहुबली’

 करीब दो साल पंजाब की जेल में बिताने के बाद बहुजन समाज पार्टी (बसपा) के विधायक एवं गैंगस्टर मुख्तार अंसारी को उत्तर प्रदेश पुलिस ने बुधवार तड़के कड़ी सुरक्षा के बीच बुंदेलखंड की बांदा जेल में स्थानांतरित किया। इस बीच, लखनऊ में एमपी-एमएलए (सांसद-विधायक) की विशेष अदालत ने 12 अप्रैल को अभियुक्त मुख्तार अंसारी को साल 2000 में कारापाल और उप कारापाल पर हमला करने, जेल में पथराव करने तथा जानमाल की धमकी देने के मामले में आरोप तय करने के लिए व्यक्तिगत रूप से तलब किया है।मुख्तार अंसारी के बड़े भाई एवं गाजीपुर से बसपा के सांसद अफजाल अंसारी ने पंजाब की रोपड़ जेल से बांदा लाते समय मुख्तार अंसारी के साथ अमानवीय बर्ताव किए जाने का आरोप लगाया है।

पंजाब के रूपनगर की रोपड़ जेल से मुख्तार अंसारी को लेकर आ रहे सुरक्षाकर्मियों ने 900 किलोमीटर लंबी यात्रा की। उच्चतम न्यायालय के एक आदेश पर कार्रवाई करते हुए उत्तर प्रदेश पुलिस ने मंगलवार को 57 वर्षीय मुख्तार अंसारी को रूपनगर जेल से वापस बांदा जेल में लाने के लिए अपनी हिरासत में ले लिया था। चिकित्सकीय जांच के बाद मुख्तार अंसारी को उत्तर प्रदेश पुलिस को सौंपने के लिए औपचारिकताएं पूरी करने में कुछ घंटे लगे। उत्तर प्रदेश पुलिस ने एंबुलेंस, दंगा रोधी वाहन और भारी सुरक्षा बल के साथ मुख्तार अंसारी को रोपड़ जेल से बांदा लाने के लिए करीब 14 घंटे सफर किया। बांदा जेल परिसर छावनी में तब्दील हो गया था और पुलिस चारों ओर चौकसी बरत रही थी।

मऊ जिले की सदर विधानसभा सीट से पांच बार के विधायक मुख्तार अंसारी को बांदा जिला जेल की बैरक नंबर 15 में रखा जाएगा। मुख्तार अंसारी को पंजाब की जेल में स्थानांतरित किए जाने से पहले इसी जगह रखा गया था।। जेल अधिकारियों के अनुरोध पर बांदा जेल में अतिरिक्त पुलिस बल तैनात किया गया है और बैरक‍ के अंदर चौबीसों घंटे सुरक्षाकर्मियों का पहरा रहेगा।बांदा के प्रभारी जेलर प्रमोद तिवारी ने कहा, ‘‘मुख्तार अंसारी की जेल में वापसी को लेकर सुरक्षा के इंतजाम पूरे कर लिए गए हैं। जेल के बाहर और भीतर सुरक्षाकर्मी तैनात कर दिए हैं। जेल की बैरक संख्या-15 में रोशनी, पेयजल व्यवस्था और साफ-सफाई पहले की दुरुस्त की जा चुकी है।’’ उन्होंने बताया कि बैरक संख्या-15 में अन्य कैदियों की आवाजाही पर रोक लगा दी गयी है और बैरक के अंदर भी तीन सुरक्षाकर्मी तैनात रहेंगे।