उद्धव ठाकरे सुशांत सिंह राजपूत केस पर पहली बार बोले - 'बिहार बनाम महाराष्ट्र झगड़ा ना बनाए विपक्ष'

उद्धव ठाकरे  सुशांत सिंह राजपूत केस पर पहली बार बोले - 'बिहार बनाम महाराष्ट्र झगड़ा ना बनाए विपक्ष'

उद्धव ठाकरे ने कहा कि देवेंद्र फडणवीस को समझना चाहिए कि ये वही पुलिस है जिसके साथ उन्होंने पिछले पांच साल काम किया. बॉलीवुड एक्टर सुशांत सिंह राजपूत की मौत एक मिस्ट्री बनती जा रही है. पूरा देश सिर्फ सोशल मीडिया पर यही लिख रहा है कि सुशांत सुसाइड नहीं कर सकते हैं. इस मामले में सबसे बड़ी बात ये है कि महाराष्ट्र सरकार सुशांत सिंह राजपूत सुसाइड केस पर ज्यादा कुछ नहीं बोल रही थी. मुंबई पुलिस पर उठते सवालों पर महाराष्ट्र सीएम उद्धव ठाकरे ने शुक्रवार को कहा कि बॉलीवुड एक्टर सुशांत सिंह राजपूत की मौत की जांच को संभालने में मुंबई पुलिस की दक्षता पर सवाल उठाने का प्रयास किया जा रहा है. मुंबई पुलिस इस मामले की जांच करने में सक्षम है. उद्धव ने कहा, 'सुशांत सिंह राजपूत की मौत के बाद जिस तरह से पीएम मोदी ने ट्वीट किया, उसके बाद से ही इसकी सीबीआई जांच की मांग उठने लगी है. राजनीतिक दलों और लोगों के द्वारा सीबीआई जांच करवाने का महाराष्ट्र सरकार लगातार दबाव महसूस कर रही है.' उद्धव ठाकरे ने एक मराठी समाचार द्वारा आयोजित एक कार्यक्रम में कहा, 'विपक्ष इंटरपोल या नमस्ते ट्रंप घटना के अनुयायियों को भी पूछताछ में ला सकता है. देवेंद्र फडणवीस को समझना चाहिए कि ये वही पुलिस है जिसके साथ उन्होंने पिछले पांच साल काम किया.' बता दें कि महाराष्ट्र के पूर्व सीएम देवेंद्र फडणवीस ने बीते गुरुवार को कहा था कि प्रवर्तन निदेशालय को सुशांत सिंह राजपूत की मौत के मामले में मनी लॉन्ड्रिंग के संबंध में रिपोर्ट दर्ज करनी चाहिए. इस मामले को सीबीआई को सौंपने के बारे में 'जनता की भावना' है लेकिन उद्धव ठाकरे की अगुवाई वाली महा विकास अघाड़ी सरकार ये बिलकुल नहीं चाहती है.  इस पर उद्धव ठाकरे ने कहा कि मुंबई पुलिसकर्मी 'कोरोना योद्धा' हैं और कई पुलिसकर्मियों की कोरोना वायरस के कारण मौत हो गई है. मुंबई पुलिस की दक्षता पर सवाल उठाना उनका अपमान है और मैं इसकी निंदा करता हूं.  महाराष्ट्र सीएम ने आगे कहा कि अगर किसी के पास मामले से जुड़ा कोई सबूत है तो वो उसे मुंबई पुलिस को दे सकता है. हम दोषियों से पूछताछ करेंगे और उन्हें दंडित करेंगे. इस मामले को महाराष्ट्र बनाम बिहार मुद्दे के रूप में इस्तेमाल ना करें. ये करना सबसे हास्यास्पद बात है.