विश्वास प्रस्ताव पर बहस जारी; संसदीय कार्य मंत्री शांति धारीवाल बोले- राजस्थान में न शाह की चली, न तानाशाही की चली

विश्वास प्रस्ताव पर बहस जारी; संसदीय कार्य मंत्री शांति धारीवाल बोले- राजस्थान में न शाह की चली, न तानाशाही की चली

 

राजस्थान विधानसभा की कार्यवाही 2 घंटे स्थगित रहने के बाद दोपहर 1 बजे फिर शुरू हुई। संसदीय कार्य मंत्री शांति धारीवाल ने विश्वास मत प्रस्ताव रखा। इस पर बहस जारी है। धारीवाल ने कहा, ‘राजस्थान में न तो किसी शाह की चली, न तानाशाह की।’ प्रतिपक्ष के उपनेता राजेंद्र राठौड़ ने सदन में केंद्रीय मंत्री अमित शाह का नाम लेने पर आपत्ति जताई।

मंत्री धारीवाल के भाषण की बड़ी बातें...

  • अकबर को महाराणा प्रताप ने नाकों चने चबवा दिए थे। इसी तरह जब भाजपा सभी जगह सरकारें गिराकर राजस्थान पहुंची तो वीर सपूतों ने अशोक गहलोत के नेतृत्व में छठी का दूध याद दिला दिया।
  • भाजपा ये कहती है कि कांग्रेस ने विधायकों की बाड़ेबंदी की, अगर ये बाड़ेबंदी है तो आपने जो विधायक गुजरात भेजे थे, वे क्या रासलीला रचाने के लिए भेजे थे?
  • महाराष्ट्र में सरकार बनाने के लिए भाजपा ने आधी रात को राष्ट्रपति को जगा दिया। जिस दिन फडणवीस की सरकार गिरी, उस दिन मोटा भाई और छोटा भाई को इस्तीफा दे देना चाहिए था।

भाजपा ने कहा- हॉर्स ट्रेडिंग की बात करते हो, आप तो पूरे हाथी गटक गए
भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष सतीश पूनिया बोले, 'मैं विश्वास मत प्रस्ताव का विरोध करता हूं। 35 दिन में 5 फिल्में रिलीज हुईं। बाड़ेबंदी 1,2,3,4, 5...आखिरी बाड़ेबंदी में फेयरमोंट की इटेलियन डिश और क्रिकेट चल रहा था। इस बीच कुछ पीड़ितों की चीखें भी थीं। राजस्थान का जुगाड़ मशहूर है। उस जुगाड़ के लिए जादूगर भी मशहूर हैं। हॉर्स ट्रेडिंग की बात करते हो, आप तो बसपा के पूरे के पूरे हाथी गटक गए।'