25 नवंबर, बुधवार की शाम को तटों से टकराएगा समुद्री तूफान

25 नवंबर, बुधवार की शाम को तटों से टकराएगा समुद्री तूफान

बंगाल की खाड़ी में बने निम्न दाब के कारण भीषण चक्रवात के 25 नवंबर को इसके तमिलनाडु तट से टकराने की आशंका है। अगले 24 घंटे में इसके और तीव्र होकर चक्रवात में बदलने की पूरी संभावना है। तूफान निवार 25 नवंबर को तमिलनाडु के तटों पर दोपहर या शाम के समय टकराएगा, तमिलनाडु और दक्षिणी आंध्र प्रदेश के तमाम क्षेत्रों में भीषण बारिश होने की संभावना है। साल 2020 के मॉनसून के बाद बंगाल की खाड़ी में बनने वाले इस पहले चक्रवाती तूफान को ‘निवार’ नाम दिया जाएगा। चक्रवात निवार से तमिलनाडु और पुदुचेरी के तटों को पार करने और 25 नवंबर की शाम को करिकाल और ममल्लापुरम के बीच एक गंभीर चक्रवाती तूफान के रूप में भूस्खलन होने की आशंका है। भारत मौसम विज्ञान विभाग (IMD) ने मंगलवार को कहा कि चक्रवात की हवा की गति 100-110 किमी प्रति घंटे और रफ्तार 120 किमी प्रति घंटा है। तमिलनाडु के तटीय क्षेत्रों में 23-26 नवंबर के बीच भारी बारिश होने की संभावना है। एनडीआरएफ ने बताया कि राष्ट्रीय आपदा प्रतिक्रिया बल (एनडीआरएफ) की तीस टीमों को तमिलनाडु, आंध्र प्रदेश और पुडुचेरी में कार्रवाई के लिए दबाया गया है क्योंकि चक्रवात निवार भारत के दक्षिणी तट की ओर बढ़ता है। चक्रवात के बारे में आईएमडी की चेतावनी के बाद जनता के जीवन और स्वास्थ्य और सुरक्षा के लिए गंभीर खतरा पैदा हो गया है। पुडुचेरी में मंगलवार रात से ही धारा 144 लगाई गई है। यह 26 नवंबर की सुबह तक जारी रहेगा।