इस महीने 5 रुपए तक मेहेंगे  हो सकते  है पेट्रोल-डीजल के दाम , जानिए कारण

इस महीने 5 रुपए तक मेहेंगे  हो सकते  है पेट्रोल-डीजल के दाम , जानिए कारण

लॉकडाउन के दौरान कच्चे तेल की कीमतें रिकॉर्ड स्तर पर गिर गई थीं। वहीं भारत में भी पेट्रोल और डीजल की खपत ऐतिहासिक रूप से नीचे आ गई थी, लेकिन अब हालात धीरे-धीरे सामान्य हो रहे हैं। ताजा खबर यह है कि इसी महीने  पेट्रोल और डीजल  के दाम में 5 रुपए तक की बढ़ोतरी की जा सकती है। सरकारी तेल कंपनियों ने इसकी तैयारी कर ली है। जून में Petrol और Diesel के दाम रोज-रोज तय करने वाला सिस्टम फिर से लागू किया जाएगा। इस बारे में कंपनियों के अधिकारियों की बैठक हो चुकी है।

हुई विशेष बैठक

यह मीटिंग पिछले महीने तब हुई थी, जब सरकार ने यह खुलासा नहीं किया था कि लॉकडाउन 5.0 लगेगा या अनलॉक 1.0 की व्यवस्था रहेगी। यानी तेल कंपनियां पेट्रोल और डीजल  के दामों पर पहले ही रणनीति बना चुकी हैं और अब जब कि देश के एक बड़े हिस्से में सबकुछ सामान्य होने की दिशा में चल रहा है, दाम किसी भी दिन बढ़ाए जा सकते हैं।

कच्चे तेल की कीमतों में पिछले महीने की तुलना में अब तक 50 परसेंट का उछाल आया है। अभी 1 बैरल कच्चा तेल $30 पहुंच गया है और इसमें रोज तेजी आ रही है। यदि यह उछाल जारी रहता है तो तेल कंपनियों को घाटा होना शुरू हो जाएगा। ऐसे में दाम बढ़ना तय है।

मौजूदा स्थिति में पेट्रोल और डीजल की लागत तथा बिक्री के बीच 4 रुप से 5 रुपए प्रति लीटर का अंतर है। यदि अंतरराष्ट्रीय बाजार में कच्चे तेल की कीमतों में और बढ़ोतरी नहीं होती है तो भी इस अंतर को पाटने के लिए आने वाले हफ्तों में प्रतिदिन 40 से 50 पैसे प्रति लीटर की वृद्धि की जा सकती है हालांकि सरकार इस पक्ष में नहीं है कि प्रतिदिन इतनी ज्यादा वृद्धि की जाए। फिर भी माना जा रहा है कि 20 से 40 पैसे प्रति दिन की वृद्धि करते हुए लागत और बिक्री के अंतर को कम करने की कोशिश की जाएगी।