मेनका गांधी ने हथिनी की मौत पर कहा, कानून में बदलाव करें प्रकाश जावडेकर

मेनका गांधी ने हथिनी की मौत पर कहा, कानून में बदलाव करें प्रकाश जावडेकर

 

केरल के मल्लापुरम में गर्भवती हथिनी की दर्दनाक मौत के बाद पूर्व केंद्रीय मंत्री मेनका गांधी  ने कहा कि केरल सरकार प्रकाश जावड़ेकर  की नहीं सुनते, तो दोषियों को कैसे पकड़ेंगे. अभी तक एक भी दोषी नहीं पकड़ा गया है. उन्होंने कहा केरल के मल्लापुरम में इस तरह की घटनाएं आए दिन होती रहती हैं. यह देश का सबसे हिंसक राज्य है. यहां लोग सड़कों पर जहर फेंक देते हैं जिससे 300 से 400 पक्षी और कुत्ते एक साथ मर जाएं. केरल में हर तीसरे दिन एक हाथी को मार दिया जाता है. केरल सरकार ने मल्लापुरम मामले में अभी तक कोई कार्रवाई नहीं की है.

केरल राज्य में 1 साल में करीब 600 हाथी मारे गए लेकिन केंद्र और राज्य सरकार ने कोई कार्रवाई नहीं की. उन्होंने कहा कि प्रकाश जावडेकर जी क़ानून में बदलाव करें. सरकार और सुप्रीम कोर्ट हाथियों का निजी स्वामित्व ख़त्म करे. आखिर सुप्रीम कोर्ट कब तक इंतज़ार करेगा. 7 साल में केरल में इस राज्य में 1 हज़ार हाथी मारे गए हैं.


मेनका गांधी ने कहा, मल्लापुरम देश का सबसे हिंसक ज़िला है यहां औरतों, बच्चों और जानवरों पर आए दिन हमले होते रहते हैं. लोग कहते हैं पूर्वी यूपी खराब हैं लेकिन मल्लापुरम के सामने पूर्वी यूपी संत लगता है. यहां पहले मारते हैं फिर बात करते हैं. इस क्षेत्र में कोरोना के दौरान कुत्तों को मारने के लिये ज़हर फैलाया गया.

मेनका गांधी ने लगाए आरोप
मेनका गांधी ने एक और आरोप लगाते हुए कहा, 'त्रिचूर के इरीनजलकुडा शहर में कूडालमिनक्यम मंदिर में एक युवा हाथी को बंधक बनाकर पीटा जा रहा है. उसकी टांगों को चार दिशानों में बांधकर खींचा जा रहा है. मैंने एक महीने पहले शिकायत की थी, लेकिन कोई कार्रवाई नहीं की है. बहुत जल्द ही ये हाथी भी मर जाएगा.'