रेवांचल चेम्बर ऑफ कामर्स एवं कैट ने जीएसटी के कड़े प्रावधान के विरोध में 26 को रीवा बंद करने किया ऐलान

रेवांचल चेम्बर ऑफ कामर्स एवं कैट ने जीएसटी के कड़े प्रावधान के विरोध में 26 को रीवा बंद करने किया ऐलान

भारत बंद के सम्बन्ध में व्यापारी संगठन नेताओ की हुई बैठक

रीवा । कॉन्फेडरेशन ऑफ ऑल इंडिया ट्रेडर्स (कैट) एवं रेवांचल चेम्बर आफ कॉमर्स के संयुक्त तत्वावधान में व्यापारिक हितों के लिए 26 फरवरी के भारत व्यापार बंद को सफल बनाने ब्यापारी संगठनों एवं टैक्स एशोसिएशन के विशेषज्ञों की बैठक बुधवार 17 फरवरी को सेलिब्रेशन होटल में सम्पन्न हुई जिसमें सभी ब्यापारी संगठनों के प्रतिनिधियों ने जीएसटी के विरोध में रीवा ब्यापार को पूर्ण रूप से बंद कर आंदोलन को सफल बनाने का संकल्प लिया। बैठक दौरान बताया गया कि देश के वित्तमंत्री जी ने अपने बजट में बिना उल्लेख किये हुए कडे प्रावधान लागू किये हैं उनमें धारा 83 (1) में प्रस्तावित किया गया है कि कर अपवंचना के मामले में कर अधिकारी एक साल तक कंपनी और फर्म की संपत्ति बैंक खाते के अलावा असिस्टेंट डायरेक्टर, पार्टनर, कंपनी सेक्रेटरी, कर्मचारी, मैनेजर, सी.ए., एडवोकेट इनसे जुडे ऑडीटर, सलाहाकर सभी की संपत्ति और बैंक खाते प्रोवीजनल अटेमेंज कर सकते हैं। इस प्रकार के जो काले कानून जीएसटी के नाम पर बनाये जा रहे हैं। हम उसका भरसक विरोध करते हैं। साथ ही संगठन के प्रतिनिधियों ने कहा ब्यापारी इस देश का वह करदाता है, जो इस देश की जीडीपी महत्वपूर्ण योगदान देता है, ब्यापारी सिर्फ खुद ब्यापार नही करता अपितु देश के 45 करोड़ कुशल एवं अकुशल श्रमिको को भी रोजगार देता है, ब्यापार बंदी हमारा कर्म नही मजबूरी है। उन्होंने यह भी कहा कि कल हमारा ब्यापार बन्द न हो जाये इसलिए सब मिलकर 26 फरवरी के भारत ब्यापार बन्द को सफल बनाए। वहीं कैट के प्रदेश उपाध्यक्ष महेश ठारवानी एवं कैट रीवा जिला अध्यक्ष अमरजीत सिंह लकी ने व्यापारिक संगठनों, औद्योगिक संगठनों एवं अन्य वस्तु या सेवा कार्य करने वाले व्यक्तियों से अनुरोध किया कि जीएसटी के कडे प्रावधानों के विरुद्ध एकमंच पर आकर भारत के ब्यापार को बंद होने से बचाने में स्वयं आगे आये। हमारा भारत व्यापार बंद किसी सरकार या व्यक्ति को चुनौती नहीं देता है। हमारा विरोध ऐसे प्रावधानों से है जो अधिकारियों को इंस्पेक्टर राज के लिए स्वतंत्रता प्रदान करते हैं। इसलिए 26 फरवरी का बंद आवश्यक है। बैठक में सरदार प्रहलाद सिंह, इंजी राजेन्द्र शर्मा, बृजेंद्र सिंह गुलशन चड्ढा सीए प्रशांत जैन टैक्स एसोसिएशन अध्यक्ष सूर्यकांत मिश्रा ओम प्रकाश गुप्ता अन्नू पाठक प्रणात कनोडिया लल्लन खान संजय तिवारी केके गुप्ता वेद प्रकाश गुप्ता गुलाब साहनी रमेश कुमार सराफ विकास ओपेरा भारत राव दीक्षित रफीक मनिहार, ऋषि दुग्गल, राकेश कमलेश ठारवानी मानवेंद्र सिंह नीरज मानिक सोनी महेश हिरवानी अवनीश खंडेलवाल मोहित सिंह मदनलाल कोटवानी आदि सभी व्यापारिक संगठनों के पदाधिकारी उपस्थित रहे.