खरीदी केन्द्रों में किसानो को हो रहीं परेशानी, घंटों कड़ी धूप में खड़ें होते हैं किसान

खरीदी केन्द्रों में किसानो को हो रहीं परेशानी, घंटों कड़ी धूप में खड़ें होते हैं किसान


समर्थन मूल्य पर गेहूं चना मसूर के उपार्जन के लिए किसानों को बेहद समस्या का सामना करना पड़ रहा है| उपज की बिक्री हेतु उन्हें घंटो कड़े धुप में खड़े हो कर इंतजार करना पद रहा हैं| देश का अन्नदाता किसान कोरोना वायरस और लॉकडाउन के बीच खरीदी को लेकर बेहद परेसान हैं| खरीदी केंद्रों में होने वाली समस्याओं से किसानो में  बेहद हतासा हैं| 

कोरोना वायरस संक्रमण रोकने के लिए संपूर्ण देश में 24 मार्च से लॉकडाउन किया गया हैं| जिसके बजह से बाजार में मंदी होंने के कारण देश की जनता बेहद परेशान है लेकिन इस लॉकडाउन में सबसे ज्यादा परेशानी किसानों को हो रही है क्योंकि किसान वैश्विक महामारी  में भी अपने फर्ज को भूल नहीं रहा है वह रोजाना नियम के अनुसार चोरहटा बहुरीबाँध खरीदी केंद्रों में अपनी फसल की बिक्री हेतु जाते हैं| लेकिन खरीदी केंद्रों में काफी समस्या हो रही  यह कहना गलत नहीं होगा जी कोरोना वायरस से लड़ने के लिए पुलिस डॉक्टर के साथ-साथ किसान भी एक कोरोना  योद्धा की तरह ही है क्योंकि किसान के ऊपर ही देश की जनता की भरण पोषण की जिम्मेदारी होती है| लेकिन आज उन्हीं किसानों को खरीदी केंद्रों में काफी समस्या हो रही है खरीदी केंद्रों में गोडाउन होते हुए भी उन्हें घंटों तक कड़ी धूप में खड़ा होना पड़ रहा है और खरीदी केन्द्रों में उनके पेयजल की व्यवस्था तक नहीं कराइ जा रहीं है| प्रशासन चाहे तो किसानो की खरीदी के लिए तौल गोडाउन के भीतर भी करा सकती हैं  जिससे किसानो को थोड़ी राहत मिलेंगी प्रदेश सरकार एवं प्रशासन को चाहिए कि किसानों को खरीदी केंद्रों में समस्याओं का सामना न करना पड़े और वह आसानी से अपनी फसल की बिक्री कर सकें तभी देश में आई मंदी के बीच भी किसान आसानी से रह सके|