जेपी प्रबंधन के खिलाफ लामबंद हुए श्रमिक, सांसद को सौंपा ज्ञापन कहां भुखमरी से बचाइए

जेपी प्रबंधन के खिलाफ लामबंद हुए श्रमिक, सांसद को सौंपा ज्ञापन कहां भुखमरी से बचाइए

सीमेंट मजदूर एकता यूनियन के बैनर तले आज हजारों की संख्या में मजदूरों ने रीवा सांसद को ज्ञापन सौंपा है| ज्ञापन में मजदूरों  ने कहा कि कोविड 19 जैसी महामारी के बाद  सरकार ने  सभी  फैक्ट्रियों को  बंद करवा दिया था|  जिसमें रीवा जेपी फैक्ट्री भी शामिल थी|  लेकिन लॉकडाउन खुलने के बाद जेपी प्रबंधन ने  मजदूरों को लेने से इनकार कर दिया| काफी आंदोलन और चक्काजाम के बाद140 मजदूरों को  वापस लिया गया| लेकिन 950 मजदूर  अभी भी रोजगार की राह देख रहे हैं जबकि मोदी सरकार का सीधा निर्देश था कि किसी का रोजगार कोरोना महामारी के चलते नहीं छीना जाएगा| लेकिन सरकार की बातों को दरकिनार करते हुए जेपी प्रबंधन केवल अपनी चला रहा है| मजदूर प्रतिनिधियों ने रीवा सांसद जनार्दन मिश्रा को ज्ञापन पत्र के माध्यम से जानकारी दी है कि मजदूरों को उनका काम  वापस  मिलना चाहिए|  वहीं सांसद जनार्दन मिश्रा ने भी मजदूरों को आश्वासन दिया है  कि इस संबंध में  वे हर संभव प्रयास करेंगे  जिसके कारण  मजदूरों को उनका  काम  मिले  और वह बेरोजगार ना हो