CMSHIVRAJ: रीवा में संक्रमण को रोको, बाहर से आने वाले हर व्यक्ति की टेस्ट कराएं

CMSHIVRAJ: रीवा में संक्रमण को रोको,  बाहर से आने वाले हर  व्यक्ति की टेस्ट कराएं

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने वीडियो कान्फ्रेंसिंग के माध्यम के कोविड.19 की समीक्षा की. उन्होंने कहा कि रीवा जिले में प्रशासनिक एवं स्वास्थ्य अमला कोरोना संक्रमण से फैलाव को प्रभावी तरीके से रोके. सीमावर्ती जिलों से आने वाले प्रत्येक व्यक्ति की सेंपलिंग ले एवं टेस्ट कराएं. जिले के बाहर से आने वाले प्रत्येक व्यक्ति को होम क्वारंटीन किया जाए. उन्होंने मेडिकल कालेज में कोरोना संक्रमण से गंभीर रोगियों की चिंता व्यक्त करते हुए कहा कि मेडिकल कालेज में प्रत्येक गंभीर मरीज का इलाज वरिष्ठ चिकित्सक स्वयं करें. चिकित्सक इलाज करने लापरवाही नहीं बरतें मुख्यमंत्री ने कहा कि मेडिकल कालेज में कोरोना से पीडि़त प्रत्येक गंभीर मरीज के कारणों की जांच की जाए. कमिश्नर स्वयं मेडिकल कालेज जाकर समीक्षा करें कि वहां के चिकित्सक मरीज का इलाज करने में लापरवाही तो नहीं बरत रहे हैं. जिले में कोरोना संक्रमण के फैलाव को रोकने के लिए प्रभावी तरीके से इलाज किया जाए इसमें किसी प्रकार की लापरवाही न बरती जाए. उन्होंने कहा कि मेडिकल कालेज में भर्ती होने वाले मरीजों का गंभीरता पूर्वक इलाज किया जाए. अनावश्यक रूप से विलंब न किया जाए कमिश्नर ने गंभीर मरीजों को रेफर करने में विलंब न करें कमिश्नर राजेश कुमार जैन ने मेडिकल कालेज के डीन एवं अधीक्षक को कहा है कि संभाग के समस्त जिलों के मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारियों से सीधे संपर्क कर गंभीर रूप से बीमार व्यक्तियों को समय से मेडिकल कालेज भेजने के निर्देश दे ताकि उनकी गंभीर बीमारी का इलाज कर उन्हें स्वस्थ किया जा सके. उन्होंने कहा कि डीन सीएमएचओ को यह भी हिदायत देंकी किसी भी गंभीर मरीज को इलाज के लिए मेडिकल कालेज भेजते समय अनावश्यक रूप से विलंब न किया जाए. उन्होंने कहा कि मेडिकल कालेज के डीन एवं अधीक्षक व्यक्तिगत रूप से प्रतिदिन कोविड-19 के संक्रमण एवं नियंत्रण की समीक्षा करें. सीमावर्ती क्षेत्र में बनाए गए हैं 24 चेकपोस्ट कलेक्टर इलैयाराजा टी ने बताया कि सीमावर्ती जिलों से आने वाले व्यक्तियों की जांच कराने के लिए सीमावर्ती क्षेत्र में ही 24 चेक पोस्ट बनाए गए हैं. उन्होंने बताया कि हनुमना में कोरोना पर पूरी तरह से नियंत्रण कर लिया गया है. उन्होंने कहा कि जिले में पेड क्वारंटीन सेंटर में 36 मरीज भर्ती हैं एवं नि:शुल्क क्वारंटीन सेंटर में 324 मरीज भर्ती हैं. आईसीयू में 3 मरीज भर्ती हैं सभी का गंभीरता पूर्वक इलाज किया जा रहा है.