नापतोल के नाम पर ली जा रही किसानों से मोटी रकम तौल करवाने के नाम पर किसानों से लिया जा रहा 14 से 18 रुपए

नापतोल के नाम पर ली जा रही किसानों से मोटी रकम तौल करवाने के नाम पर किसानों से लिया जा रहा 14 से 18 रुपए

सरकार के द्वारा लगातार किसानों के हितों की बात की जा रही प्रदेश के हर जिले में किसानों को कोई समस्या ना हो उसके लिए खरीदी केंद्रों बनाए गए लेकिन जिस तरह से खबर सामने आ रही है कि इस कड़कती ठंड में एवं बरसात के समय भी ट्राली और ट्रैक्टर में लदी धानो को अंदर नहीं किया ज रहा है जिससे धान के भीग जाने से खराब होने का भी खतरा बढ़ जाता है इसे किसानों को काफी समस्याओं का सामना करना पड़ेगा इतना ही नहीं खरीदी केंद्रों में भी जगह-जगह धान पानी में भीगती नजर आ रही है लेकिन जिम्मेदार अधिकारी कर्मचारियों के द्वारा इस ओर कोई ध्यान नहीं दिया जा रहा है रीवा जिले की उमरी धान खरीदी केंद्र में शासन की सभी ब्याव्स्थाये सिथिल है यहाँ ना तो सरकार के द्वारा तौल के नाम में दी गई छूट की लिखित जानकारी लगाई गई है और ना ही किसानों को इसका लाभ मिल पा रहा है दर्जन भर किसान बरसात में भी ट्रैक्टर में धान रखे हुए बाहर भीगते नजर आये और सैकड़ों क्युन्टल धान इस खरीदी केंद्र पर बाहर बरसात में पड़ी नजर आई| किसानो ने जानकारी देते हुए बताया की धान नापतोल के नाम पर जबरिया 14 से 18 रुपए लिया जा रहा है और उन्हें प्रताड़ित किया जा रहा है जिसको लेकर नेताओं ने प्रशासन को चेतावनी देते हुए कहा कि यदि शीघ्र धान खरीदी व्यवस्था में सुधार नहीं हुआ तो इसका व्यापक स्तर पर विरोध किया जाएगा