पूसी तेरस के दिन मेले का आयोजन भक्तों की उमड़ी भीड़

पूसी तेरस के दिन मेले का आयोजन  भक्तों की उमड़ी भीड़

राष्ट्रीय राजमार्ग पर स्थित ग्राम पंचायत सोहागी से 5 किमी दूर पहाड़ में स्थित भगवान अड़गड़नाथ शिव मंदिर में हर वर्ष की भांति इस वर्ष भी 11 जनवरी को पूसी तेरस के दिन मेले का आयोजन किया गया जिसमें काफी संख्या में आस पास से भक्त गणों ने पहुंचकर अड़गड़ -नाथ भगवान शिव के साथ माता पार्वती ,भगवान गणेश एवं बंजरंग बली की पूजा अर्चना करते हुए मेले का आनंद लिया।  सभी भक्तों ने सच्चे मन व श्रद्धा के साथ भगवान शिव की पूजा अर्चना करते हुए मन वांछित फल की कामना की।मेले में सुबह से ही स्थानीय व आसपास गांव के दुकानदारों ने अपनी-अपनी दुकानें लगाई। मौसम साफ होने के कारण दोपहर 1बजे के बाद अच्छा खासा मेला देखने को मिला। मेले में चारों ओर महिला,पुरुष व बच्चों की भीड़ दिखाई दे रही थी। मेले में एसडीएम त्योंथर संजीव पाण्डेय , संजय सिंह सीईओ त्योंथर समेत समस्त प्रशासनिक अमले ने उपस्थित होकर मेलें की सुचारू व्यवस्था बनाने हेतु अपना मार्गदर्शन दिया।। साथ ही मेले की सुरक्षा हेतु ग्राम पंचायत सोहागी के अनुरोध पर एसडीओपी त्योंथर व थाना प्रभारी सोहागी ने पुलिस बल की विशेष व्यवस्था की थी।कहा जाता है की  सोहागी पहाड़ में स्थित अड़गड़नाथ भगवान शिव का मंदिर करीब 335 वर्ष पुराना है जनश्रुति के मुताबिक जहां पर इस वक्त शिव मंदिर है वहां पर 1740 में घनघोर जंगल था उक्त वन में एक विशाल तेंदू वृक्ष की जड़ से स्वयं अड़गड़ नाथ भगवान शिव नारियल के आकार में प्रकट हुए थे जिस वक्त वहां पर भगवान प्रकट हुए उस समय गढ़वा नईगढ़ी के राजा रणधीर सिंह सेंगर वही पर विश्राम कर रहे थे भगवान शिव ने उन्हें स्वप्न देकर अपने प्रगट्य स्थान सोहागी पहाड़ में शिव मंदिर बनवाने हेतु आदेशित किया। शिव भगवान के आदेशानुसार गढ़वा नरेश के द्वारा यहां पर मंदिर का निर्माण करा कर भगवान शिव की प्रतिमा की स्थापना की ।