रीवा को नहीं मिलेगी छूट, रेड जोन के दायरे में शामिल होने की कगार पर रीवा

रीवा को नहीं मिलेगी छूट, रेड जोन के दायरे में शामिल होने की कगार पर रीवा

रीवा रेड जोन में हैं इसकी कोई आधिकारिक पुष्टि नहीं हुई है लेकिन हाल ही में राज्य सरकार द्वारा जारी गाइडलाइन के अनुसार की ग्रीन जोन की देहलीज रीवा लांग रहा है। रीवा में अब 29 कोरोना पॉजिटिव मामले सामने आ चुके हैं। इन मामलों के सामने आने के बाद रीवा वासियों की लगभग ढाई महीने की तपस्या बेकार हो गई जिससे लॉक डाउन 4 में मिलने वाली सुविधाएं रीवा वासियों से छिन गई है। रीवा अगर ग्रीन जोन में होता तो शर्तों के साथ  सैलून की दुकानें खुलती व शहर सहित ग्रामीण क्षेत्र में ऑटो भी चलने लगते, अंतरजिला बसों का संचालन भी किया जा सकता था लेकिन ऐसा नहीं हो पाया| अब उन्हें लॉक डाउन  3 में मिली छूट से ही आगे का काम करना होगा। शासन के निर्देश के अनुसार 21 मई को जारी आदेश में पूरे जिले में लॉक डाउन की स्थिति 31 मई तक रहेगी जिसमें कलेक्टर एवं जिला दंडाधिकारी बसंत कुर्रे ने दंड प्रक्रिया संहिता 1973 की धारा 144 के तहत संशोधित आदेश जारी किए हैं।यह आदेश 31 मई 2020 को रात 12:00 बजे तक लागू रहेंगे| प्रतिबंध की अवधि में सोशल डिस्टेंसिंग तथा कोरोना संक्रमण से बचाव के सभी सुरक्षात्मक उपाय अपनाना अनिवार्य होगा इसके साथ ही नियमों का उल्लंघन करने वालों के विरुद्ध दंड प्रक्रिया  की धाराओं के तहत कार्यवाही की जाएगी। बता दे क्राइसिस कमेटी की बैठक में भी लॉक डाउन में छूट ना देने का निर्णय लिया गया था और अब बढ़ते हुए मरीजों की संख्या को देखते हुए रीवा को लॉक डाउन थ्री में मिली रियायतों के साथ ही आगे बढ़ना होगा। वह तमाम नियमों का पालन करना होगा जो नियम लॉक डाउन 3 में दी गई रियायतों के साथ बनाए गए थे। लॉक डाउन 4 में भी रीवा में सैलून, ऑटो, पान तंबाकू के ठेले वह होटल  रेस्टोरेंट भी खोलने की इजाजत नहीं दी है। लगातार बाहर से मजदूर आ रहे हैं जिनकी संख्या 50,000 है और इतने ही मजदूर अभी आना बाकी है जिससे रीवा में खतरा टला नहीं है।