किराया माफ़ कराने रीवा कलेक्टर को कोचिंग संचालकों ने सौंपा ज्ञापन

किराया माफ़ कराने रीवा कलेक्टर को कोचिंग संचालकों ने सौंपा ज्ञापन

कोरोना से हुए लॉक डाउन के कारण अर्थव्यवस्था बुरी तरह प्रभवित हुई| बड़े उद्द्योग,व्यापारिक संस्थान,गरीब मजदूर पर लॉक डाउन का बुरा असर पड़ा| बड़े शहरों से जहाँ एक ओर पलायन शुरू है वही हर वर्ग का व्यवसायी अपने आने  वाले भविष्य के लिए चिंतित है. शहर में संचालित कोचिंग संस्थान के मालिकों के लिए लॉक डाउन में बड़ी समस्या कड़ी हुई| लॉक डाउन फर्स्ट फेस से संस्थान बंद रहे, किराये की बिल्डिंग में संचालित संस्थानों पर मकानमालिकों का भी प्रेशर है| लगभग 3 महीने होने को हैं क्लासेस बंद हैं सस्थानों में ताला लगा हुआ है| इस परिस्थिति में किराया देना कोचिंग संचालकों के लिए बड़ी चुनौती है| रीवा  कोचिंग संचालकों ने आज रीवा कलेक्टर को ज्ञापन सौपा और यह मांग कि की लॉक डाउन अवधि का किराया माफ किया जाए और साथ ही भविष्य के किराए में कमी की जाये, किराए के मकान में रहने वाले छात्रों को रियायत दी जाए, रीवा में एक जुलाई से संस्थानों के संचालन की अनुमति प्रदान की जाए और बिजली के बिल भी माफ किया जाए| अपनी मांगों का ज्ञापन देते समय शहर के प्रतिष्ठित कोचिंग संस्थान के संचालक उपस्थिति रहे|