12वीं बोर्ड परीक्षा के विरोध में विद्यार्थियों ने खोला मोर्चा, परीक्षा की तिथि को बढ़ाये जाने कि की मांग

12वीं बोर्ड परीक्षा के विरोध में विद्यार्थियों ने खोला मोर्चा, परीक्षा की तिथि को बढ़ाये जाने कि की मांग

कोरोना वायरस का कहर देश और दुनिया ने मिलकर देखा देश मे कोरोना वायरस जब दस्तक दे रहा था तो इससे बचाव के लिए केंद्र एवं प्रदेश की सरकार सख्त थी धीरे-धीरे करके सभी संस्थाओं को बंद कर दिया गया देश में लॉकडाउन की घोषणा हो गई थी जिसमें 12वीं के छात्रों का भी काफी नुकसान हुआ बोर्ड की होने वाली परीक्षा को स्थगित कर दी गई| लेकिन समय बीतने के बाद मध्य प्रदेश सरकार ने 12वीं की परीक्षा कराने का एलान कर दिया। जिसके खिलाफ में कई युवा संगठन सहित 12 के विद्यार्थियों ने मोर्चा खोल दिया है। रीवा में भी आज भारी तादाद में 12वीं के विद्यार्थियों ने कलेक्ट्रेट कार्यालय पहुंचकर 12वीं के बोर्ड परीक्षा कराए जाने का विरोध किया हालांकि  प्रदेश में अब 12वीं की परीक्षा होना लगभग तय माना जा रहा है माध्यमिक शिक्षा मंडल ने इसके टाइम टेबल भी जारी कर दिए हैं। लेकिन रीवा कलेक्ट्रेट पहुंचे 12वीं के छात्रों का कहना है की उन्होंने साल भर  पढ़ाई की है इसलिए उन्हें परीक्षा देने में कोई हर्ज नहीं है लेकिन जब प्रदेश में एक भी केस नहीं था तब 12वीं की परीक्षा स्थगित कर दी गई और आज जब इतने केस बढ़ गए हैं तो ऐसे में 12वीं की परीक्षा क्यों कराई जा रही है यह सवाल 12वीं के परीक्षार्थियों का हैं जिन्हें बोर्ड की परीक्षा देना हैं इसके अलावा भी बारवी के  परीक्षार्थियों ने सवाल खड़े करते हुए कहा है कि 12वीं की परीक्षा देने वाले विद्यार्थियों में से एक को भी कोरोना वायरस का संक्रमण हो जाएगा तो इसका जिम्मेदार कौन होगा इतना ही 12वीं के छात्रों ने रीवा कलेक्ट्रेट परिसर के बाहर खड़े होकर नारेबाजी की और साथ ही 12वीं की परीक्षा को कोरोना संक्रमण के बीच कराए जाने का विरोध दर्ज कराया विद्यार्थियों की मांग है कि कोरोनावायरस के वैश्विक महामारी को दृष्टिगत रखते हुए छात्रों के जीवन रक्षा हेतु माध्यमिक शिक्षा मंडल कक्षा 12वीं की वार्षिक परीक्षा की तिथि या तो आगे बढ़े और यह तो परीक्षा स्थगित कर दी जाए