यूजीसी ने जारी की नई गाइडलाइन,परीक्षा में शामिल न होने वाले छात्रों को देना होगा दूसरा मौका

यूजीसी ने जारी की नई गाइडलाइन,परीक्षा में शामिल न होने वाले छात्रों को देना होगा दूसरा मौका

यूजीसी ने प्रदेश सहित देशभर के विश्वविद्यालयों के लिए दिशा निर्देश जारी किए है| नए दिशा नर्देशों के मुताबिक यूजी-पीजी अंतिम सेमेस्टर अंतिम वर्ष के  छात्रों के एग्जाम सितंबर के आखिर तक विश्वविद्यालय को कराना होगा। यूजीसी ने यह भी निर्देश दिए कि इन परीक्षाओं में अगर कोई छात्र किसी कारण से परीक्षा में शामिल नहीं हो पाता है तो उससे संबंधित प्रश्न पत्र या विषय की परीक्षा देने का दूसरा मौका विश्वविद्यालय को देना होगा। यूजीसी का कहना है कि इसके लिए विश्वविद्यालय अलग से विशेष परीक्षा आयोजित कर सकते हैं| यूजीसी का साफ कहना है कि एग्जाम में छात्रों का नुकसान नहीं होना चाहिए। इसके पहले 20 जुलाई तक विश्वविद्यालय के परीक्षा कराए जाने की गाइडलाइन जारी की थी| जुलाई में बढ़ती संख्या को देखते हुए सितंबर तक परीक्षा कराए जाने के निर्देश दिए गए हैं।इसके तहत मध्य प्रदेश के विश्वविद्यालयों में पढ़ने वाले करीब 6 लाख छात्रों के एग्जाम कराए जाने की तैयारी शुरू कर दी गई है। खबरें यह भी हैं कि अगर संक्रमण की स्थिति ठीक रहती है तो विश्वविद्यालयों में अगस्त में एग्जाम हो सकते हैं और अगर संक्रमण और अधिक बढ़ता है तो एग्जाम सितंबर में है| फिलहाल यूजीसी की नई गाइडलाइन के मुताबिक़ जो भी विद्यार्थी सितंबर में होने वाली परीक्षा में शामिल नहीं हो पाएगा उसको दूसरा मौका देना होगा।