सतना जिले में शराब माफियाओं को गावं की महिलाओं ने खदेड़ा, थाना के बाहर किया हंगामा

सतना जिले में शराब माफियाओं को गावं की महिलाओं ने खदेड़ा, थाना के बाहर किया हंगामा

कोरोना महामारी के चलते पूरे देश मे लॉक डाउन कर दिया गया । मध्य प्रदेश में  भी 31 मार्च से देशी अंग्रेजी सभी तरह की शराब दुकानों पर ताले लग गए। बावजूद इसके शराब की पेकारी बंद नही हुई| यदा कदा चोरी से शराब बेचने की खबरें शुर्खियो में रही| ताजा मामला फिर सतना जिले के नागोद के पोड़ी गाँव का सामने आया है जहाँ बीते कई दिनों से खेतों में शराब बनने की खबरे आ रही थी|  जिस का आज गाँव की सैकड़ो महिलाओ ने जमकर विरोध किया| लाठी डंडों से लेश महिलाओ ने जमकर बवाल किया| खेत मे बन रहे  शराब माफियाओ को खदेड़ा और मौके पर मिले भारी मात्रा में महुआ लहान को नष्ट कर दिया। आपे से बाहर महिलाओ ने पोड़ी उप थाना भी घेर लिया लेकिन जब पुलिस ने कार्यवाही का भरोसा दिलाया तब जाकर ग्रामीण महिलाओं का गुस्सा सांत हुआ।

 लॉक डाउन में शराब बंदी के बाद सतना जिले के ग्रामीण इलाकों में अवैध देशी शराब की उपज खेतो में होने लगी ।ये नजारा है सतना जिला मुख्याल से 15 किलोमीटर दूर पोड़ी गाँव का जहाँ तालाब के किनारे झाड़ियो में खुले में देशी शराब की भट्टी चल रही थी| जो जिले भर में शराब की कमी को पूरा कर रही थी| लेकिन पहले से शराब से पीड़ित महिलाओं ने यहाँ मोर्चा खोल दिया| लगातार शिकायत के बाद जब पुलिस और आबकारी विभाग नींद से नही जागा तो खुद कानून हाँथ में ले लिए  सैकड़ो महिलाओ ने लाठी डंडों से लैस होकर देशी शराब की अवैध भट्ठी को निश्तेनाबूत कर दिया और थाने का घेराव कर जमकर हंगामा किया| इस दौरान मौके पर से पुलिस ने भारी मात्रा में महुआ हालान और शराब भट्टी  जप्त की लेकिन शराब माफिया पुलिस के पकड़ से बाहर रहे।ग्रामीण महिलाओं ने घंटो हंगामा इस बात पर किया कि लगातार शिकयत के बाद भी पुलिस ने समय रहते कार्यवाही क्यो नही की।