किराये की बिल्डिंग मे संचालित संस्थान के व्यवसायियों ने की सरकार से मांग, माफ़ किया जाये किराया

किराये की बिल्डिंग मे संचालित संस्थान के व्यवसायियों ने की सरकार से मांग, माफ़ किया जाये किराया

लॉक डाउन फेस 3 यानि लॉक डाउन 17 मई तक बढ़ाये जाने के साथ ही प्राइवेट सेक्टर और विशेषरूप से किराये की बिल्डिंग में संचालित होने वाले संसथान और व्यवसाइयों ने सरकार से किराये में रियायत और सरकार से मदद की गुहार लगायी है.

कोरोना वायरस के कारण लॉकडाउन के कारण छोटे व्यवसायियों को खासा नुकसान हुआ है| किराए की बिल्डिंग पर संचालित कोचिंग संस्थान और अन्य व्यवसायिक गतिविधियां करने वाले छोटे व्यवसायियों पर लॉक डाउन की बड़ी मार हुई है। रीवा शहर में संचालित कोचिंग संचालकों ने सरकार से मांग की है कि लॉक डाउन के दौरान बंद से संस्थानों पर बहुत बुरा असर पड़ा है और सरकार किराए की बिल्डिंग पर संचालित संस्थानों का किराया माफ करने का प्रावधान लेकर आए। बैंक कोचिंग संचालकों और अन्य किराए की बिल्डिंग में संचालित व्यवसायियों के समर्थन में कांग्रेस पार्टी के शहर अध्यक्ष गुरमीत सिंह मांगू ने भी बयान दिया है और कहा है कि महाराष्ट्र की तर्ज पर मध्यप्रदेश और युवा में भी शासन-प्रशासन राहत किराए के हॉल दुकानों में संचालित कारोबारियों को सरकार से मदद मिलना बेहद जरूरी है अगर ऐसा नहीं किया गया तो आगे आने वाली स्थिति विकराल हो सकती है।