मारुति सुजुकी सिटी कार शाखा के कर्मचारियों का आरोप,सैलरी नहीं दे रहें एजेंसी के मालिक

मारुति सुजुकी सिटी कार शाखा के कर्मचारियों का आरोप,सैलरी नहीं दे रहें एजेंसी के मालिक

शहर के मारुति सुजुकी सिटी कार शाखा के कर्मचारी आज तहसीलदार कार्यालय पहुंचे जिन्होंने लौंग दा उनके नियमों का पालन करवाने हेतु आदेश प्रदान करने एवं सैनिटाइजिंग कराए जाने के संबंध में आवेदन पत्र अनुविभागीय अधिकारीट को सौंपा है। दरअसल इन कर्मचारियों का कहना है की वह कई वर्षों से मारुति सुजुकी सिटी कार शाखा में कार्यरत है। शाखा में कुल 165 कर्मचारी हैं जिनमें से लगभग 30 कर्मचारियों को कोई ना कोई आरोप लगाकर मालिक द्वारा कार्य से निकाल दिया गया है वही बचे हुए कर्मचारियों को लॉक डाउन ने भी काम करवाया गया लेकिन जब वेतन की बारी आई तो उन्हें वेतन नहीं दिया जा रहा है| जिसके कारण उन सभी कर्मचारियों का परिवार भूखों मरने की कगार पर है। इसके साथ ही कर्मचारियों का कहना है कि शोरूम में ग्लव्स, मास्क व सैनिटाइजिंग की कोई भी व्यवस्था एजेंसी के मालिक की ओर से नहीं की जाती है साथ ही सोशल डिस्टेंसिंग का किसी भी तरीके से पालन एजेंसी में नहीं होता है। जिससे उन्हें कोरोनावायरस का डर लगा रहता है। बता दें कि बीते 6 मई को तहसील हुजूर के अनुविभागीय अधिकारी मौके का निरीक्षण करने पहुंचे थे और मौखिक रूप से एजेंसी प्रबंधक को सभी एहतियात बरतने के निर्देश दिए गए थे लेकिन फिर भी एजेंसी मालिक द्वारा किसी भी तरीके की व्यवस्था नहीं की गई। परेशान कर्माचारी आज तहसीलदार कार्यालय पहुंचे और यह मांग की है कि उन्हें काम से बाहर ना निकाला जाए और वेतन में कटौती न की जाए। कर्मचारियों का कहना है कि अगर एजेंसी के मालिक द्वारा उनकी बात नहीं सुनी गई तो वह प्रदर्शन करने पर बाध्य होंगे। आवेदन पत्र देने वालों में मुख्य रूप से इमरान अंसारी, अहमद उल्लाह खान, नितिन पांडे, संदीप पाठक, रजनीश पांडे, पुष्पेंद्र द्विवेदी, संदीप शर्मा, शशांक सिंह, विश्वनाथ त्रिवेदी, राजेश वर्मा सहित अन्य लोग मौजूद रहे।