रीवा में घंटो जाम में फसे रहें प्रवासी मजदूर,किया हंगामा

रीवा में घंटो जाम में फसे रहें प्रवासी मजदूर,किया हंगामा

कोरोना वायरस से बचाव के लिए देश में लॉकडाउन तो हुआ लेकिन दिहाड़ी मजदूरी करने वालों पर आफत टूट पड़ी| फैक्ट्री और बाजार बंद होने के चलते उन्हें मजदूरी नहीं मिल रही है| रोज कमाने और खाने वाले मजदूरों के पास अब राशन खत्म होने के बाद घर वापस लौटने के सिवाय और कोई चारा नहीं है, लेकिन इस दौरान भी उनकी वापसी में भारी दिक्कत हो रही है| शासन के अनेक प्रयासों के बावजूद मजदूर बेहद परेशान हैं| आज रीवा में भी एक ऐसी ही तस्वीर देखने को मिली जो मजदूरों की बेबसी को दिखाती है| रीवा के इटौरा बाईपास से लेकर रतहरा बाईपास तक कुछ ऐसा ही नजारा देखने को मिला जहां मजदूरों से भरे ट्रकों का तांता लगा रहा| इस दौरान मजदूर बेहद परेशान दिखे तो वही प्रशासन की नाकामी भी देखने को मिली लॉकडॉउन के कारण आज रीवा में इटौरा बायपास से लेकर रतहरा बाईपास में भी मजदूरों को बेहद परेशान होना पड़ा| बता दे कि घंटों तक मजदूरों को यहां पर बेवजह रुकना पड़ा|1 किलोमीटर तक मजदूरों से भरे हुए ट्रकों ताँता लगा रहा| जिससे वहां पर जाम की स्थिति निर्मित हो गई थी आलम यह था कि हजारों मजदूर बेहद परेशान थे और हंगामे की स्थिति भी निर्मित हो रही थी इस दौरान प्रशासन की बड़ी नाकामी भी सामने आई दरअसल ऐसे समय में इन मजदूरों को कैसे सुरक्षित उनके घर पहुंचाया जाए यह एक बहुत बड़ा चुनौती है लेकिन उसके विपरीत रतहरा बाईपास के समीप स्थित टोल प्लाजा के पास एक चलित वाहन प्रदूषण जांच का वाहन खड़ा था| जिसके कर्मचारियों द्वारा बाहर से आने वाले वाहनों को रोककर वाहनों के प्रदूषण की जांच की जा रही थी जिसके कारण लंबे समय से जाम लगा हुआ था जिस पर पुलिस प्रशासन ने कार्यवाही करते हुए कर्मचारी सहित वाहन को जप्त कर थाने भेज दिया है| पुलिस प्रशासन ने काफी मशक्कत के बाद जाम मे फंसे हुए लोगों को एक-एक करके निकाला|